Connect with us

अन्य ख़बरें

10 May 2015 E- Newspaper

Published

on

अन्य ख़बरें

सपा बसपा मुसलमान को तेज पत्ते की तरह करती हैं इस्तेमाल: नसीमुद्दीन सिद्दीकी

Published

on

गाजियाबाद (करंट क्राइम)। बुधवार को मुरादनगर कस्बे के मलिक नगर मोहल्ले में जिला कांग्रेस कमेटी अध्यक्ष बिजेंद्र यादव के द्वारा एक बैठक का आयोजन किया गया। बैठक में मुख्य अतिथि के रूप में पूर्व कैबिनेट मंत्री एवं उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी प्रांतीय अध्यक्ष नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने संबोधित किया।प् ा्रांतीय अध्यक्ष नसीमुद्दीन सिद्दीकी ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी हिंदू मुसलमान के बीच में खाई पैदा करके देश को तोड़ना चाहती है जबकि दूसरी तरफ कांग्रेस पार्टी के नेता राहुल गांधी 3700 किलोमीटर की पदयात्रा कर हिंदू मुसलमान के बीच में पैदा की गई इस खाई को पाटकर भारत को जोड़ने का काम कर रहे हैं।
प्रांतीय अध्यक्ष ने कहा कि उत्तर प्रदेश के अंदर क्षेत्रीय दल समाजवादी और बहुजन समाज पार्टी किसी ना किसी तरीके से भारतीय जनता पार्टी को फायदा पहुंचाने का काम करते हैं। यह दोनों दल चुनाव के समय में मुसलमानों का भरपूर इस्तेमाल करते हैं और चुनाव के बाद मुसलमानों को बेसहारा और यतीम समझ कर छोड़ देते हैं ।
इसका उदाहरण प्रांतीय अध्यक्ष ने यह देते हुए कहा कि जैसे खाना बनाते समय स्वाद के लिए खाने में तेजपात के पत्ते का का इस्तेमाल किया जाता है और खाना बनने के बाद खाना खाने से पहले तेजपात के पत्ते को निकाल कर बाहर फेंक दिया जाता है। ऐसा ही कुछ हालात उत्तर प्रदेश के अंदर मुसलमानों के साथ हो रहा है। बैठक में पूर्व मंत्री सतीश शर्मा , इरफान सैफी , कामेश्व रत्न और उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी सचिव जनपद मेरठ बागपत प्रभारी नसीम खान ,जिला उपाध्यक्ष संगठन प्रभारी अमोल वशिष्ट , पूर्व महिला आध्यक्ष पूजा चड्ढा , हाजी अब्दुल सिद्दीक , हाजी मुस्तफा कारी मोहम्मद आलम , हाजी मोहम्मद अख्तर , सैयद इरफान अली, कयूम कुरेशी, आबेदीन सिद्दीकी, जमालुद्दीन, राजवीर , सुरेंद्र शर्मा , राजाराम भारती, मोहम्मद हनीफ चीनी, राजेंद्र शर्मा, राजाराम भारती , विजय पाल चौधरी, सुनील शर्मा, एस एन राय, राजेश गुप्ता, कृपाशंकर, चेयरमैन नवाब , अख्तर अली, अयूब, एहसान अली, आसिफ सिद्दीकी, शान अब्बासी, सलमान अब्बासी, मोहम्मद रजा मुराद , दिनेश शर्मा , दलित कांग्रेस अध्यक्ष पंकज तंजानिया, जनाब फखरुद्दीन, शमसुद्दीन आदि लोग मौजूद रहे।

Continue Reading

अन्य ख़बरें

शहर के 96 कूड़ाघर को निगम करेगा विलोपित

Published

on

गाजियाबाद (करंट क्राइम)। गाजियाबाद नगर निगम को स्वच्छता सर्वेक्षण में प्रथम स्थान उत्तर प्रदेश में प्राप्त हुआ। जिस को बनाए रखने के लिए गाजियाबाद नगर निगम लगातार प्रयासरत दिखाई दे रहा है । इसी क्रम को आगे बढ़ाते हुए शहर के समस्त कूड़ा डलाव घर समाप्त किए जाने हेतु महापौर आशा शर्मा तथा नगर आयुक्त डॉ नितिन गौड़ ने कार्यवाही में तेजी लाने के निर्देश संबंधित को दिए हैं। जिस पर कार्यवाही तेजी से की जा रही है। जीवीपी (गार्बेज व्यूर्लेबल प्वांइट ) के स्थाई विलोपन हेतु नगर आयुक्त नितिन गौड़ द्वारा निरीक्षण के दौरान तीन विभागीय अधिकारियों को निर्देशित किया गया है । जिसमें स्वास्थ्य निर्माण तथा उद्यान विभाग को निर्देशित किया गया है। शहर के 96 कूड़ा डलाव घर को स्थाई रूप से समाप्त करने के लिए गाजियाबाद नगर निगम की तैयारी चल रही है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा मौके पर सफाई कराई जाएगी जिसके उपरांत निर्माण विभाग द्वारा सौंदर्य करण का कार्य हेतु बेस तैयार किया जाएगा । जिसके उपरांत उद्यान विभाग द्वारा पेड़ पौधों को लगाकर उक्त स्थान से कूड़ा घर विलोपित किया जाएगा । जिसके लिए नगर आयुक्त नितिन गौड़ द्वारा उच्च अधिकारियों को भी समय-समय पर शहर भ्रमण के दौरान कूड़ा घर विलोपित कार्यों पर नजर बनाए रखने के लिए निर्देश दिए गए हैं।
ये है निगम की प्लानिंग
नगर आयुक्त डॉ नितिन गौड़ द्वारा बताया गया कि प्रतिबद्ध 75 जनपद 75 घंटे 750 निकाय अभियान के क्रम में शहर के अंतर्गत चिन्हित 96 जीवीपी को स्थाई रूप से विलोपित किया जाएगा ना केवल विलोपित किया जाएगा बल्कि जनभागीदारीता भी सुनिश्चित की जाएगी । नगर आयुक्त नितिन गौड़ द्वारा यहां स्पष्ट किया गया है कि जिन माध्यमों से कूड़ा डलाव घर बनते हैं उन्हीं माध्यमों को जनभागीदारीता में शामिल करते हुए जागरूकता अभियान के दौरान स्थाई रूप से समाप्त किए जाएंगे । निगम के विभागों की कार्यवाही पूर्ण होने के उपरांत उक्त स्थलों का निरीक्षण किया जाएगा । जिसमें क्षेत्रीय पार्षद, आरडब्ल्यूए पदाधिकारी, एनजीओ संस्थाएं, तथा क्षेत्र के निवासी गण उपस्थित होंगे जिन से वार्ता करते हुए उक्त स्थानों को हमेशा के लिए सुंदर बनाए रखने हेतु चर्चा भी की जाएगी। जनभागीदारीता के प्रयास के बिना किसी भी कार्य योजना का सफल होना मुश्किल है । जिसके लिए नगर आयुक्त नितिन गौड़ द्वारा जनभागीदारी बढ़ाने हेतु भी संबंधित अधिकारियों निर्देशित किया गया है। निरीक्षण के दौरान नगर आयुक्त नितिन गौड़ सहित अपर नगर आयुक्त अरुण कुमार यादव, नगर स्वास्थ्य अधिकारी डॉ मिथिलेश, महाप्रबंधक जल आनंद त्रिपाठी, निर्माण तथा उद्यान विभाग की टीम उपस्थित रहे विजयनगर जोन तथा वसुंधरा जोन केजीवीवी पॉइंट का जायजा लिया गया।

Continue Reading

अन्य ख़बरें

शादी का झांसा देकर 20 लाख की ठगी करने वाला फर्जी कस्टम इंस्पेक्टर गिरफ्तार

Published

on

गाजियाबाद (करंट क्राइम)। कविनगर पुलिस ने फर्जी कस्टम इंस्पेक्टर बनकर ठगी करने वाले एक शातिर अभियुक्त गिरफ्तार किया है। पकड़ा गया आरोपी कस्टम इंस्पेक्टर बनकर रहता था। वर्दी पहनता था और उसने गाजियाबाद में रहने वाली एक युवती को शादी का झांसा देकर ठगी की। जिसमें उसने लगभग 20 लाख रुपए हड़प लिए, जब परिजनों और युवती ने उसकी सच्चाई जानी तो पुलिस को शिकायत की। पुलिस ने पूरे मामले में शिकायत करते हुए फर्जी इंस्पेक्टर को ट्रैक किया और उसकी जमकर खातिरदारी की।
आरोप है कि यह युवती को पुलिस को शिकायत करने और पैसा ना देने के लिए एसिड अटैक करने की धमकी देता था। पुलिस ने पकड़े गए फर्जी कस्टम इंस्पेक्टर से पुलिस की वर्दी, मोबाइल फोन, सीजीएचएस कार्ड, इंस्पेक्टर का फर्जी कार्ड अन्य दस्तावेज बरामद किए हैं। पुलिस की मानें तो इससे पहले भी कई जगह इस तरह की ठगी कर चुका होगा। पुलिस अधिकारियों का दावा है कि इसका परिवार भी शामिल रहता था। सीओ कवि नगर रितेश त्रिपाठी और कवि नगर थाना प्रभारी अमित
काकरान ने पूरे मामले की प्रेसवार्ता कर जानकारी दी।
दो महीने में ठगे 20 लाख रुपए, कस्टम में जाना था ड्रीम
पुलिस ने बताया है कि पकड़ा गया आरोपी सोमदत्त कौशिक, उर्फ गोलू उर्फ सोनू मूलरूप से फरीदाबाद के जुनेडा गांव का रहने वाला है। वह युवती को एक सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म पर मिला था, उससे दोस्ती की। युवती एमएससी पास है और छात्रों को ट्यूशन देने का काम करती है।
दोनों के बीच दोस्ती हुई और इसके बाद शातिर ठग सोमेंद्र दत्त कौशिक ने अपने परिवार वालों और खुद के एक्सीडेंट होने के बाद इलाज के नाम पर पैसे मांगने शुरू कर दिए। पुलिस की मानें तो लगभग 2 महीने में इसने लड़की और उसके पिता से लगभग 20 लाख रुपये तक ले लिए। परिवार वालों को जब इसकी सच्चाई का मालूम चली तो उन्होंने पुलिस को शिकायत दी। जिसके बाद पुलिस ने फर्जी इंस्पेक्टर को युवती की मदद से यहां बुला कर ट्रैपकिया और गिरफ्तारी हुई। जिस वक्त आरोपी कस्टम के फर्जी इंस्पेक्टर को गिरफ्तार किया है पुलिस की वर्दी पहने हुए था।
पूछताछ में हर बार बदले
शातिर ठग ने बयान
कवि नगर थाना प्रभारी अमित ने बताया है कि शिकायत मिलने के बाद सीओ कवि नगर रितेश त्रिपाठी के आदेश पर एक टीम गठित की गई थी। जिसमें उप निरीक्षक संजीव कुमार, उप निरीक्षक सहदेव सिंह व जयवर्धन सिंह के साथ ही कॉन्स्टेबल तेज कुमार, मुकेश कुमार और उदयवीर को शामिल किया था। इन लोगों ने शातिर ठग सोमदत्त कौशिक को गोविंदपुरम के निकट से गिरफ्तार किया। पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इसने पहले अपनी पोस्टिंग गुजरात में होना बताया, फिर पोरबंदर तो कभी जामनगर बताया। पुलिस ने जब इससे सामान्य ज्ञान के सवाल पूछे और अंग्रेजी की साधारण ट्रांसलेशन कराई तो है उसमें भी फेल हो गया था। यह अपना पासिंग आउट सेंटर और जो तैनाती का जोन तक नहीं बता पा रहा था। वहीं पुलिस अधिकारियों ने इसकी वेरिफिकेशन कराई तो इसने जो फर्जी कार्ड और सीजीएचएस कार्ड बनवा रखे थे वह गुजरात में तैनात अन्य पुलिसकर्मियों के नाम से बने थे। पुलिस ने बताया है कि इसके कस्टम में भर्ती होने की कोई साक्ष्य नहीं मिले हैं।
युवती और परिवार का
जीत लिया था भरोसा
जांच टीम की मानें तो आरोपी सोमदत्त कौशिक बेहद शातिर है और यह कभी युवती और उसके परिवार वालों को खुद का एक्सीडेंट होने का हवाला देता, तो कभी अपने पिताजी की घातक बीमारी होने की बात कहकर युवती को भावनात्मक रूप से जोड़ लेता था और कुछ ही घंटों में लाखों रुपए अपने अकाउंट में ट्रांसफर करा लेता था। जब युवती और उसके परिजनों ने पैसों के वापसी की मांग की तो इसने बहाने बनाना शुरू कर दिए थे और उनके फोन कॉल नहीं उठाता था। इसके बाद उन्होंने पुलिस से संपर्क किया था। फिलहाल पुलिस ने आरोपी को धारा- 406 ,420, 467, 468, 471 और 506 का मुकदमा पंजीकृत करते हुए गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। फिलहाल आरोपी ने 20 लाख रुपए की ठगी गई रकम में से पीड़िता को केवल दो लाख रुपये ही वापस करवाएं हैं।

Continue Reading

Trending

%d bloggers like this: