Connect with us

दिल्ली

एनएससीएन-आर कार्यकर्ता शांति समझौता विरोधी गुट से हाथ मिलाएंगे

Published

on

नई दिल्ली| नागालैंड शांति समझौते को एक झटका यह लग सकता है कि शांति समझौते में शामिल एक गुट नेशनल सोशलिस्ट कौंसिल ऑफ नागालैंड-रिफार्मेशन (एनएससीएन-आर) के कुछ कार्यकर्ताओं ने समझौता विरोधी गुट एनएससीएन-खापलांग में फिर से शामिल होने का फैसला किया है। (latest news) इनका कहना है कि भारत सरकार और समझौते में शामिल नागा गुट उन पर निशाना साधकर ‘गंदी राजनीति खेल रहे हैं।’

एनएससीएन-खापलांग से टूटकर अलग हुए एनएससीएन-आर के एक वरिष्ठ सदस्य का आरोप है कि उसके सदस्यों को असम राइफल्स द्वारा “मादक पदार्थो की तस्करी और उगाही के झूठे आरोप” में लगातार पकड़ा जा रहा है।

सदस्य ने कहा कि एनएससीएन-आईएमऔर एनएससीएन-यूनिफिकेशन नागालैंड में समानांतर सरकार चला रहे हैं। ये संगठन एनएससीएन-आर के कार्यकर्ताओंके खिलाफ मादक पदार्थो की तस्करी और उगाही की कहानियां गढ़ कर उन्हें पकड़ रहे हैं।

सदस्य ने नाम न बताने की शर्त पर आईएएनएस से कहा, “सुरक्षा बलों, एनएससीएन (इसाक-मुइवा) और एनएससीएन(यूनीफिकेशन) के हाथों लगातार हमला और प्रताड़ना झेल रहे हमारे कुछ कार्यकर्ताओं ने सीमापार (म्यांमार) जाकर फिर से खापलांग का हाथ थामने का फैसला किया है। हम इसे रोकने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन हमारे प्रति दुर्भावना की वजह से अगर ऐसा होता है तो इसके लिए हम जिम्मेदार नहीं होंगे।”

सूत्रों ने आईएएनएस को यह भी बताया कि एनएससीएन-खापलांग के नेतृत्व ने इस कदम का स्वागत किया है और इसे ‘पुनर्मिलन’ करार दिया है।

एनएससीएन-खापलांग प्रतिबंधित संगठन है। इसी ने जून में भारतीय सेना के काफिले पर धावा बोला था। उसके बाद से भारतीय सुरक्षा बल इसके खिलाफ अभियान छेड़े हुए हैं। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने इसके दो शीर्ष नेताओं के बारे में सूचनाएं देने वाले के लिए 17 लाख रुपये इनाम का ऐलान किया हुआ है।

मोदी सरकार और नेशनल सोशलिस्ट कौंसिल ऑफ नागालिम (इसाक-मुइवा) के बीच इसी साल अगस्त में शांति समझौते पर दस्तखत हुए थे।

मीडिया रपटों के मुताबिक, समझौते पर दस्तखत के बाद से एनएससीएन-आर के 50 से अधिक कार्यकर्ताओं को पकड़ा जा चुका है। एक सदस्य बीते महीने नागालैंड में सुरक्षा बलों के हाथ मारा भी गया है।

एनएससीएन-आर नागा गुटों में वह पहला गुट है, जिसने सार्वजनिक रूप से नागा शांति समझौते का समर्थन किया था। इस गुट के सदस्यों की संख्या 2,500 बताई जाती है।

Continue Reading
Click to comment

You must be logged in to post a comment Login

Leave a Reply

उत्तर प्रदेश

तीन महीने तक हैं थाना प्रभारी ट्रांसफर पोस्टिंग से सेफ !

Published

on

बढ़ी हुई है थाना प्रभारियों की हार्टबीट, घटनाएं ना करादें काम खराब
गाजियाबाद (करंट क्राइम)। कमिश्नरेट सिस्टम लागू हो चुका है, अधिकारियों की एक के बाद एक पोस्टिंग हो रही है और उनके कार्यक्षेत्रों का विभाजन किया जा रहा है। बीते दिनों लगभग 47 उपनिरक्षकों की एक तबादला लिस्ट आई थी। उसके बाद चर्चां हंै कि जल्द ही थाना प्रभारियों के कार्यक्षेत्र में भी बदलाव देखने को मिल सकता है लेकिन गाजियाबाद कमिश्नरेट के सूत्र बता रहे हैं कि अभी तीन महीने थाना प्रभारियों को ट्रांसफर पोस्टिंग टेंशन से छुटकारा मिल सकता है। वहीं सूत्रों ने बताया है कि सीपी अजय मिश्रा ने पहली ही क्राइम मीटिंग में थाना प्रभारियों को साफ कर दिया था, कि वह बेहतर वर्किंग चाहते हैं और घटनाओं का खुलासा ठीक होना चाहिए। बेगुनाहों को जेल नहीं भेजा जाए और लोगों के फीडबैक पुलिस के प्रति ठीक प्रकार से आने चाहिए। सूत्रों ने दावा किया है कि अगर जिले में किसी थानाक्षेत्र में कोई बड़ी अप्रिय वारदात और थाना प्रभारी की लापरवाही का मामला सामने नहीं आता है तो ही तीन महीने से पहले जिले के 23 थानों के किसी प्रभारी के कार्यक्षेत्र में बदलाव देखने को नहीं मिलेगा।

देहात और सिटी सर्किल में हो रहे हैं लगातार खुलासे
कमिश्नरेट सिस्टम लागू होने के बाद देहात पुलिस और सिटी थानाक्षेत्रों की पुलिस खुलासे कर रही है। तो वहीं बड़े घटनाक्रम भी खुल रहे हैं। इन्हीं दोनों के एरिया के पुलिस अधिकारियों की प्रेसवार्ता भी रखी गई हैं। दोनों ही डिप्टी कमिश्नर आॅफ पुलिस स्तर के अधिकारियों द्वारा की गई हैं, तो वहीं इनमें एसीपी स्तर के अधिकारी भी शामिल रहे हैं। खुलासों के मामले में कवि नगर ने जहां सनसनीखेज खुलासा किया। जिसमें पत्नी ने प्रेमी के संग मिलकर पति की हत्या की और नकली कस्टम इंस्पेक्टर भी दबोचा गया है। नंदग्राम ने छात्रा के दुष्कर्म के आरोपी को दबोचा, भोजपुर पुलिस ने हथियारों का जखीरा बामद किया था। वहीं मंगलवार को मुरादनगर थानाक्षेत्र पुलिस ने लाखों रुपए का माल और ट्रक व आरोपियों को बरामद किया है।

शांतिपूर्वक चुनाव और क्राइम कंट्रोल है बड़ा टास्क
गाजियाबाद कमिश्नरेट बनने के बाद नगर निगम का चुनाव होना है। इस चुनाव को लेकर गाजियाबाद पुलिस कमिश्नरी भी अपनी पूरी तैयारी में जुटी हुई है। तो वहीं क्राइम कंट्रोल करना भी कमिश्नरेट में तैनात अधिकारियों के लिए एक बड़ी चुनौती रहेगा। सर्दियों का समय शुरू हो गया है और सीपी ने पुलिसकर्मियों को टास्क देने शुरू कर दिए। हालांकि अभी ट्रैफिक टास्क मिला है लेकिन चोरी, लूट और सनसनीखेज वारदातों पर रोकथाम और खुलासा करने पर उन्हें प्राथमिकता से काम करने का निर्देश दिया गया है। वहीं पुलिस टीमों को खुलासे करने के लिए भी उनके डिप्टी कमिश्नर स्तर के अधिकारी प्रेरित कर रहे हैं।

Continue Reading

अन्य ख़बरें

विक्रम वेधा के बाद पुष्कर गायत्री ला रहे क्राइम सीरीज, प्राइम वीडियो पर इस दिन होगी रिलीज

Published

on

नई दिल्ली। यह साल दक्षिण भारत के नाम रहा। फिल्में हों या कलाकार। दक्षिण भारतीय भाषाओं का कंटेंट खूब चला। इसीलिए, कई ऐसी फिल्में और सीरीज आयीं, जिन्हें हिंदी में भी रिलीज किया गया। इसी क्रम में वधांधी- द फेबल ऑफ वेलोनी आ रही है। मूल रूप से यह तमिल क्राइम थ्रिलर है, जिसे तेलुगु, मलयालम और कन्नड़ के साथ हिंदी में भी स्ट्रीम किया जाएगा। सीरीज का ट्रेलर मंगलवार को जारी कर दिया गया।

क्या है सीरीज की कहानी?

वधांधी की कहानी के केंद्र में एक ईमानदार और तेजतर्रार पुलिस अफसर विवेक है, जो 18 साल की वेलोनी के कत्ल की गुत्थी सुलझाने में लगा है। कत्ल को बाद वेलोनी को लेकर कुछ अफवाहें फैलने लगती हैं, जो उसकी छवि को बिगाड़ रही हैं। विवेक के सामने यह भी एक चुनौती है कि जल्दी से केस सुलझाकर इन अफवाहों पर विराम लगाये।

सीरीज की स्टार कास्ट

वधांधी से तमिल एक्टर एसजे सूर्या ओटीटी डेब्यू कर रहे हैं। विवेक का किरदार उन्होंने ही निभाया है। सीरीज का निर्माण पुष्कर और गायत्री ने किया है, जिनकी फिल्म विक्रम वेधा में ऋतिक रोशन और सैफ अली खान ने लीड रोल्स निभाये थे। उनके अलावा नासर, विवेक प्रसन्ना, कुमारन थंगराजन और स्मृति वेंकट अहम भूमिकाओं में दिखेंगे। एंड्रयू लुइस निर्देशित सीरीज में लोकप्रिय अभिनेत्री लैला अहम भूमिका में दिखेंगी। साथ में संजना भी एक किरदार में नजर आएंगी। उनका यह डेब्यू है। एंड्रयू ने कहा- यह नोइर क्राइम थ्रिलर है और दर्शकों को अंदाजा लगाना मुश्किल होगा कि कहानी कहां जा रही है। स्क्रिप्ट से लेकर सीरीज के निर्देशन तक का पूरा सफर काफी रोमांचक रहा है। एसजे सूर्या, तमिल सिनेमा के चर्चित एक्टर-डायरेक्टर हैं। एंड्रयू ने सहायक निर्देशक के तौर पर सूर्या के साथ सात सालों तक काम किया है। सूर्या ने अपने ओटीटी डेब्यू को लेकर कहा कि जब पुष्कर-गायत्री ने मुझे सीरीज के लिए एप्रोच किया तो मैं बहुत खुश हुआ था। पहले भी पुलिस अफसर का किरदार निभा चुका हूं, लेकिन विवेक सामान्य किरदार नहीं है। सस्पेंस से भरी इस कहानी में दर्शक डूब जाएंगे।  अपने किरदार के बारे में लैला ने बताया कि मेरा किरदार काफी मजबूत है। हालांकि, यह एक ऐसी महिला का है, जो कमजोर है। मुश्किलों में रह रही यह महिला अपनी छोटी बेटी की हिफाजत की कोशिशों में जुटी रहती है। सीरीज में वेलोनी का टाइटल रोल संजना निभा रही हैं। संजना ने इस चुनौतीपूर्ण भूमिका के लिए लेखक-निर्देशक और निर्माताओं का शुक्रिया अदा किया, जिन्होंने संजना में भरोसा दिखाया। नवोदित एक्ट्रेस सीरीज को अपना ड्रीम डेब्यू मानती हैं।

 

Continue Reading

अन्य ख़बरें

UAE के विदेश मंत्री दो दिवसीय भारत दौरे पर , एस जयशंकर से की मुलाकात

Published

on

नई दिल्ली। एस जयशंकर ने मंगलवार को यूएई के विदेश मंत्री शेख अब्दुल्ला बिन जायद अल नाहयान से दिल्ली में मुलाकात की। इस दौरान जयशंकर ने कहा कि भारत और यूएई अपनी व्यापक रणनीतिक साझेदारी को आगे बढ़ाएंगे। जयशंकर ने ट्वीट कर कहा कि भारत में यूएई के महामहिम शेख अब्दुल बिन जायद का स्वागत करना हमेशा प्रसन्नता का विषय है। इस साल ये हमारी चौथी संरचित बैठक है। जयशंकर ने कहा कि हम अपनी व्यापक रणनीतिक सहभागिता को आगे बढ़ाएंगे।

भारत की आधिकारिक यात्रा पर जायद

बता दें कि जायद भारत की आधिकारिक यात्रा पर हैं। विदेश मंत्रालय की ओर से जारी एक बयान में कहा गया, ‘यूएई के विदेश मामलों के और अंतरराष्ट्रीय सहयोग के मंत्री महामहिम शेख अब्दुल्ला 21-22 नवंबर को भारत की आधिकारिक यात्रा कर रहे हैं।’ जायद के साथ एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल भी आया है।

पीएम मोदी ने की थी यूएई की यात्रा

विदेश मंत्रालय के मुताबिक, उनकी ये यात्रा दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय और पारस्परिक हित के वैश्विक मुद्दों पर नियमित परामर्श का हिस्सा होगी। मंत्रालय ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 28 जून 2022 को यूएई का दौरा किया था। तब उन्होंने दौरान उन्होंने शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान से मुलाकात की थी। वहीं, जयशंकर ने जायद के साथ तीसरी रणनीतिक वार्ता की सह-अध्यक्षता करने के लिए यूएई का दौरा किया था।

Continue Reading

Trending

%d bloggers like this: