Connect with us

दिल्ली

मैं कड़ी मेहनत करता हूं और काम करके दिखाता हूं: पीएम मोदी

Published

on

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सुरेंद्रनगर में सार्वजनिक बैठक शामिल हुए। इस दौरान उन्होंने अभिभाषण भी दिया। मैंने कहा कि नर्मदा योजना का सबसे बड़ा लाभ किसी भी जिले को मिलेगा, सुरेंद्रनगर जिले को मिलेगा और आज वह लाभ आप तक पहुंच गया है।
पीएम मोदी नो कहा कि मैं जानता हूं कि गुजरात में घर-घर 24 घंटे बिजली पहुंचाना एक कठिन काम है, लेकिन मुझे कड़ी मेहनत करनी पड़ी है। मैं कड़ी मेहनत करता हूं और
काम करके दिखाता हूं।
पीएम मोदी ने कहा कि हमारा सुरेंद्रनगर जिला नमक बनाने में एक है। भारत के 80% नमक का उत्पादन गुजरात में होता है। इससे लाखों लोगों को रोजगार मिलता है। पहले के जमाने में गुजरात में उच्च शिक्षा के लिए दूसरे राज्य जाना पड़ता था, आज दूसरे राज्यों के युवा गुजरात की धरती पर पढ़ने आते हैं।
मैं वार महोत्सव में अपमान को निगलता हूं क्योंकि मैं इस देश के 130 करोड़ लोगों का भला करना चाहता हूं, मैं इस भारत को एक विकसित भारत बनाना चाहता हूं।

अन्य ख़बरें

विक्रम वेधा के बाद पुष्कर गायत्री ला रहे क्राइम सीरीज, प्राइम वीडियो पर इस दिन होगी रिलीज

Published

on

नई दिल्ली। यह साल दक्षिण भारत के नाम रहा। फिल्में हों या कलाकार। दक्षिण भारतीय भाषाओं का कंटेंट खूब चला। इसीलिए, कई ऐसी फिल्में और सीरीज आयीं, जिन्हें हिंदी में भी रिलीज किया गया। इसी क्रम में वधांधी- द फेबल ऑफ वेलोनी आ रही है। मूल रूप से यह तमिल क्राइम थ्रिलर है, जिसे तेलुगु, मलयालम और कन्नड़ के साथ हिंदी में भी स्ट्रीम किया जाएगा। सीरीज का ट्रेलर मंगलवार को जारी कर दिया गया।

क्या है सीरीज की कहानी?

वधांधी की कहानी के केंद्र में एक ईमानदार और तेजतर्रार पुलिस अफसर विवेक है, जो 18 साल की वेलोनी के कत्ल की गुत्थी सुलझाने में लगा है। कत्ल को बाद वेलोनी को लेकर कुछ अफवाहें फैलने लगती हैं, जो उसकी छवि को बिगाड़ रही हैं। विवेक के सामने यह भी एक चुनौती है कि जल्दी से केस सुलझाकर इन अफवाहों पर विराम लगाये।

सीरीज की स्टार कास्ट

वधांधी से तमिल एक्टर एसजे सूर्या ओटीटी डेब्यू कर रहे हैं। विवेक का किरदार उन्होंने ही निभाया है। सीरीज का निर्माण पुष्कर और गायत्री ने किया है, जिनकी फिल्म विक्रम वेधा में ऋतिक रोशन और सैफ अली खान ने लीड रोल्स निभाये थे। उनके अलावा नासर, विवेक प्रसन्ना, कुमारन थंगराजन और स्मृति वेंकट अहम भूमिकाओं में दिखेंगे। एंड्रयू लुइस निर्देशित सीरीज में लोकप्रिय अभिनेत्री लैला अहम भूमिका में दिखेंगी। साथ में संजना भी एक किरदार में नजर आएंगी। उनका यह डेब्यू है। एंड्रयू ने कहा- यह नोइर क्राइम थ्रिलर है और दर्शकों को अंदाजा लगाना मुश्किल होगा कि कहानी कहां जा रही है। स्क्रिप्ट से लेकर सीरीज के निर्देशन तक का पूरा सफर काफी रोमांचक रहा है। एसजे सूर्या, तमिल सिनेमा के चर्चित एक्टर-डायरेक्टर हैं। एंड्रयू ने सहायक निर्देशक के तौर पर सूर्या के साथ सात सालों तक काम किया है। सूर्या ने अपने ओटीटी डेब्यू को लेकर कहा कि जब पुष्कर-गायत्री ने मुझे सीरीज के लिए एप्रोच किया तो मैं बहुत खुश हुआ था। पहले भी पुलिस अफसर का किरदार निभा चुका हूं, लेकिन विवेक सामान्य किरदार नहीं है। सस्पेंस से भरी इस कहानी में दर्शक डूब जाएंगे।  अपने किरदार के बारे में लैला ने बताया कि मेरा किरदार काफी मजबूत है। हालांकि, यह एक ऐसी महिला का है, जो कमजोर है। मुश्किलों में रह रही यह महिला अपनी छोटी बेटी की हिफाजत की कोशिशों में जुटी रहती है। सीरीज में वेलोनी का टाइटल रोल संजना निभा रही हैं। संजना ने इस चुनौतीपूर्ण भूमिका के लिए लेखक-निर्देशक और निर्माताओं का शुक्रिया अदा किया, जिन्होंने संजना में भरोसा दिखाया। नवोदित एक्ट्रेस सीरीज को अपना ड्रीम डेब्यू मानती हैं।

 

Continue Reading

अन्य ख़बरें

UAE के विदेश मंत्री दो दिवसीय भारत दौरे पर , एस जयशंकर से की मुलाकात

Published

on

नई दिल्ली। एस जयशंकर ने मंगलवार को यूएई के विदेश मंत्री शेख अब्दुल्ला बिन जायद अल नाहयान से दिल्ली में मुलाकात की। इस दौरान जयशंकर ने कहा कि भारत और यूएई अपनी व्यापक रणनीतिक साझेदारी को आगे बढ़ाएंगे। जयशंकर ने ट्वीट कर कहा कि भारत में यूएई के महामहिम शेख अब्दुल बिन जायद का स्वागत करना हमेशा प्रसन्नता का विषय है। इस साल ये हमारी चौथी संरचित बैठक है। जयशंकर ने कहा कि हम अपनी व्यापक रणनीतिक सहभागिता को आगे बढ़ाएंगे।

भारत की आधिकारिक यात्रा पर जायद

बता दें कि जायद भारत की आधिकारिक यात्रा पर हैं। विदेश मंत्रालय की ओर से जारी एक बयान में कहा गया, ‘यूएई के विदेश मामलों के और अंतरराष्ट्रीय सहयोग के मंत्री महामहिम शेख अब्दुल्ला 21-22 नवंबर को भारत की आधिकारिक यात्रा कर रहे हैं।’ जायद के साथ एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल भी आया है।

पीएम मोदी ने की थी यूएई की यात्रा

विदेश मंत्रालय के मुताबिक, उनकी ये यात्रा दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय और पारस्परिक हित के वैश्विक मुद्दों पर नियमित परामर्श का हिस्सा होगी। मंत्रालय ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 28 जून 2022 को यूएई का दौरा किया था। तब उन्होंने दौरान उन्होंने शेख मोहम्मद बिन जायद अल नाहयान से मुलाकात की थी। वहीं, जयशंकर ने जायद के साथ तीसरी रणनीतिक वार्ता की सह-अध्यक्षता करने के लिए यूएई का दौरा किया था।

Continue Reading

उत्तर प्रदेश

मेयर सीट पर बन रहे हैं ओबीसी महिला आरक्षण के आसार

Published

on

बता रहे हैं ऐसा चकरानुक्रम के सियासी जानकार
वरिष्ठ संवाददाता (करंट क्राइम)
गाजियाबाद। मेयर सीट को लेकर सबसे ज्यादा दावेदारी की जंग भाजपा में है। यहां दावेदारों को एक पूरा मेला दिल्ली से लेकर लखनऊ की दौड़ लगा रहा है। लेकिन दावेदारी गेम का सबसे रोचक पहलू सीट का आरक्षण है और ये वो पहलू है जिसका डर हर दावेदार को सता रहा है। क्योंकि सीट का पूरा दारोमदार इसी पर टिका है। जनरल वालों ने मेहनत की और सीट ओबीसी हो गयी तो सारी तैयारी बेकार हो जायेगी। सीट सामान्य पुरूष हुई तो यहां उन्हें झटका लगेगा जो रिपीट की आस पर अपने खास लोगों से उम्मीद लगाये हुए हैं। वहीं अब अक्टूबर के महीने में सीट के आरक्षण का चार्ट पूरा हो जायेगा। सूत्र बताते हैं कि इस बार ओबीसी को लेकर वार्ड में ज्यादा फोकस किया गया है। कई वार्डों में ओबीसी आरक्षण लागू होगा। वहीं खबर अब उस खेमे से है जहां से टिकट के आसार प्रबल माने जाते हैं। सूत्र बता रहे हैं कि गाजियाबाद की मेयर सीट इस बार जायेगी तो महिला खाते में लेकिन महिला का वर्ग बदल जायेगा और यहीं से चुनाव का पूरा गेम बदल जायेगा। सूत्र बता रहे हैं कि गाजियाबाद की मेयर सीट इस बार ओबीसी महिला आरक्षित हो सकती है। आरक्षण का ये रूल कई फूल वालों को नई आॅक्सीजन दे सकता है तो कई की सियासी दावेदारी पर जोर का झटका लगेगा। हालाकि अभी से सीट आरक्षण को लेकर कुछ कहना जल्दबाजी होगी लेकिन कहने वाले ये भी कह रहे हैं कि अब चुनाव में ज्यादा समय नहीं रह गया है। चक्रानुक्रम का गणित यही बता रहा है कि मेयर सीट इस बार जायेगी तो महिला खाते में लेकिन ये खाता ओबीसी महिला का होगा। वहीं एक वर्ग ये भी मानकर चल रहा है कि ये मेयर चुनाव हैं और इसकी इतनी केयर सरकार नहीं करती है। इन चुनावों में पहले चेहरा तय होता है और फिर सीट का आरक्षण तय होता है। अभी लगभग एक महीना बाकी है और अभी चुनाव की कई बाजियों में उलटफेर होना बाकी है।

यदि सीट हो गयी ओबीसी रिजर्व तो कौन सी लेडी करेगी टिकट डिजर्व
हालाकि अभी से कहना जल्दबाजी है लेकिन अगर बात ओबीसी महिला की उठी है तो फिर ये कयास है और कयास भी सही लेकिन उन चेहरों पर फोकस करना होगा जो टिकट के लिए प्रयास कर रहे हैं। यदि भाजपा की टिकट हिस्ट्री पर गौर करें तो ये पता चलता है कि यहां मेयर के लिए वो अपने मूल कार्यकर्ता को लाते हैं। पृष्ठभूमि भाजपा की होनी चाहिए और यहां आशा शर्मा जैसी पुरानी कार्यकर्ता को भी पार्टी सम्मान देती है तो पृष्ठ भूमि के आधार पर दमयन्ती गोयल को भी भाजपा ने चुनाव मैदान में उतारा था। तेलूराम काम्बोज को मेयर का टिकट लाईफ टाईम अवॉर्ड माना जा सकता है। अब सवाल ये है कि यदि सीट ओबीसी महिला रिजर्व हुई तो फिर भाजपा का कौन सा चेहरा यहां टिकट के लिए डिजर्व करेगा। भाजपा की कौन सी ओबीसी महिला लीडर यहां उम्मीदवारी के लिए कन्सीडर हो सकती हैं।

Continue Reading

Trending

%d bloggers like this: