Connect with us

फैशन का है ये जलवा !

जानें: कैसे सनग्लास सूट करेंगे आपके चेहरे पर!

Published

on

सही सनग्लास खरीदना आपके लिए मुश्किल भरा काम हो सकता है, लेकिन अगर कुछ बातों का ध्यान रखा जाए, तो यह मुश्किल काम न सिर्फ आसान हो जाएगा, बल्कि आप औरों से अलग भी दिखेंगे। ये हैं सही सनग्लास का चयन करने के कुछ आसान टिप्स:

– जब व्यक्ति फ्रेम का चुनाव करता है, तो उसको अपने चेहरे का ख्याल रखना चाहिए कि वह किस शेप का है।

-अगर चेहरा दिल के आकार का है, तो उसे रेट्रो स्क्वॉयर फ्रेम का चुनाव करना चाहिए।

-अगर चेहरा राउंड शेप है, तो उसे आयताकार (रेक्टेंगुलर) कोणीय आकार का फ्रेम लेना चाहिए।

-अंडाकार चेहरे वाले लोग न तो ज्यादा छोटे और न ही ज्यादा बड़े फ्रेम इस्तेमाल करें। ग्लैमरस लुक के लिए एविएटर बड़े आकार और स्कॉयर फ्रेम का चश्मा खरीद सकते हैं।

-आयाताकार चेहरे वाले लोग गोल, एविएटर फ्रेम का इस्तेमाल कर सकते हैं।

-चेहरे की रंगीनियत का भी सनग्लास खरीदते समय ध्यान रखना चाहिए। हल्के रंग के व्यक्ति को ज्यादा कलरफुल चश्मा लेने से बचना चाहिए, उन्हें हल्के रंग का चश्मा खरीदना चाहिए।

-हल्के रंग वाले लोग नीले और लाल रंग का सनग्लास इस्तेमाल करें।

Continue Reading
Click to comment

You must be logged in to post a comment Login

Leave a Reply

फैशन का है ये जलवा !

मनीष मल्होत्रा के शानदार कलेक्शन के साथ संपन्न हुआ डिजिटल आईसीडब्ल्यू

Published

on

नई दिल्ली| पहली बार डिजिटल प्लेटफॉर्म के जरिए आयोजित हुआ इंडिया कुटूर वीक का समापन मशहूर डिजाइनर मनीष मल्होत्रा के कलेक्शन की लॉन्चिंग के साथ संपन्न हुआ। उनके कलेक्शन का नाम ‘रूहानियत-एक सेलिब्रेशन कॉल्ड लाइफ’ है।
मल्होत्रा की फैशन फिल्म में बॉलीवुड अभिनेत्री जान्हवी कपूर नजर आईं। उनके कलेक्शन में ब्राइडल वेयर के साथ-साथ ज्वैलरी पर भी फोकस किया गया। यह फैशन फिल्म भारतीय शिल्पकारों की कला, अवध और पंजाब की कला-शिल्प को समर्पित की गई है। इसमें कहा गया, “यह संग्रह हमारी विविध विरासत और भारतीय शिल्पकारों की भावपूर्ण कलात्मकता के लिए एक ट्रिब्यूट है। यह अवध की नजाकत और पंजाब की जीवंतता और हजारों वर्षों से इस काम में अपना जीवन देने वाले लोगों की कहानी है। मुगलों के सौंदर्य से प्रेरित इस कलेक्शन में आधुनिकता की झलक भी नजर आई। कलिदार कुर्ते, दुपट्टे, गरारे, महिलाओं के लिए इजार सलवार, अंगरखा जैसी कई चीजें उनके कलेक्शन में शामिल हैं।
मल्होत्रा ने अपने कलेक्शन में हाथ से बुने हुए फेब्रिक, जिनमें असली सोने-चांदी के रेशों से बुनकर बनाई गई जरी बॉर्डर का इस्तेमाल किया गया। इसके अलावा राजस्थान, अहमदाबाद की कशीदाकारी का उपयोग किया। वहीं रंगों की बात करें तो प्राकृतिक रंग जैसे मिट्टी के रंग और हल्की गर्मियों के लिए ब्राइडल शेड्स जैसे चैती, पिस्ता ग्रीन, डस्की पिंक, ग्रे और मरून से लेकर सभी नैचुरल रंग इसमें शामिल रहे।
मनीष मल्होत्रा ने कहा, “हमारे कलेक्शन का मकसद अपने देसी कलाकारों, शिल्पकारों और कारीगरों की धीमी और शुद्ध कारीगरी को पुनर्जीवित करना है। यह हमारे पुराने शिल्प और तकनीकों की याद दिलाता है। मुगल काल की कला और वास्तुकला – पुराने उद्यान, महल, पेंटिंग, आभूषण, संग्रहालय और वेशभूषा भारत की भव्य और विविध संस्कृति में अमर हैं।”

Continue Reading

अन्य ख़बरें

‘मिस यूनिवर्स’ में रोशमिता शीर्ष 13 में भी नहीं बना सकीं जगह

Published

on

मनीला| सौंदर्य प्रतियोगिता मिस यूनिवर्स 2016 में भारत की रोशमिता हरिमूर्ति शीर्ष 13 में भी स्थान पाने में कामयाब नहीं रहीं। बेंगलुरु की रहने वाली रोशमिता (23) माउंट कार्मल कॉलेज से अंतर्राष्ट्रीय कारोबार विषय में मास्टर्स कर रही हैं।

भारत की कोई भी प्रतियोगी पिछले 15 से अधिक वर्षो से मिस यूनिवर्स का खिताब जीतने में कामयाब नहीं रही है। आखिरी बार वर्ष 2000 में लारा दत्ता ने यह खिताब जीता था।

इस प्रतियोगिता के निर्णायक मंडल में भारत की सुष्मिता सेना ने बतौर निर्णायक शिरकत की। सुष्मिता ने 1994 में मनीला में ही मिस यूनिवर्स का खिताब जीता था।

Continue Reading

अन्य ख़बरें

फ्रांस की आइरिस मितेनाएर बनीं मिस यूनिवर्स

Published

on

मनीला| सौंदर्य प्रतियोगिता मिस यूनिवर्स-2016 में दुनियाभर की सुंदरियों को मात देते हुए फ्रांस की आइरिस मितेनाएर ने यह खिताब अपने नाम कर लिया है। फिलीपींस की राजधानी मनीला के मॉल ऑफ एशिया एरेना में मेजबान हार्वे ने आइरिस के नाम का ऐलान किया, वहीं भारत की रोशमिता हरिमूर्ति शीर्ष 13 में भी जगह नहीं बना पाईं।

मिस यूनिवर्स-2015 पिया वुर्ट्जबैक ने आइरिस (23) को ताज पहनाया। आइरिस डेंटल सर्जरी की पढ़ाई कर रही हैं। उन्हें खेलकूद, दुनियाभर में घूमने और नए फ्रांसीसी व्यंजन बनाने का भी शौक है।

इस प्रतियोगिता में मिस हैती को फस्र्ट रनरअप और मिस कोलंबिया को सेकंड रनरअप घोषित किया गया। इस प्रतियोगिता के निर्णायक मंडल में पूर्व मिस यूनिवर्स और भारतीय अभिनेत्री सुष्मिता सेन भी शामिल थीं।

सुष्मिता ने कहा, “यह एक पल है, जहां कोई मिस यूनिवर्स बनता है। वह ऐसे जवाब देती है, जो सभी को जोड़ता है। इसलिए, एक सही तरह से सही जवाब देने वाली सुंदरी मिस यूनिवर्स होती है और मैं अंतिम छह प्रतिभागियों में वह प्रतिभा देख सकती हूं।”

सुष्मिता ने 1994 में मिस यूनिवर्स का खिताब जीता था। इसके बाद वर्ष 2000 में भारत की लारा दत्ता ने इस प्रतियोगिता को जीता।

मिस यूनिवर्स प्रतियोगिता के 65वें संस्करण में वैश्विक मुद्दों को स्पर्श किया गया। इसमें डोनाल्ड ट्रंप का राष्ट्रपति पद पर निर्वाचन और शरणार्थियों पर प्रतिबंध के मुद्दे शामिल थे।

Continue Reading

Trending

%d bloggers like this: