Connect with us

बाज़ार

भारतीय स्टेट बैंक का शुद्ध लाभ 20 फीसदी बढ़ा

Published

on

कोलकाता| भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) ने शुक्रवार को कहा कि कारोबारी साल 2014-15 के लिए उसका शुद्ध लाभ साल-दर-साल आधार पर 20 फीसदी से अधिक बढ़ा। (Net profit increased 20 per cent) बैंक ने कहा कि उसे 13,102 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ हुआ, जो एक साल पहले 10,891 करोड़ रुपये था।

इस दौरान बैंक की शुद्ध ब्याज आय 12 फीसदी बढ़कर 55,015 करोड़ रुपये रही, जो एक साल पहले 49,282 करोड़ रुपये थी।

संचालन लाभ 21 फीसदी से अधिक बढ़कर 38,914 करोड़ रुपये रहा, जो एक साल पहले 32,109 करोड़ रुपये था।

मार्च 2015 तक बैंक की कुल गैर-निष्पादित परिसंपत्तियां करीब आठ फीसदी घटकर 56,725 करोड़ रुपये दर्ज की गई, जो मार्च 2014 तक 61,605 करोड़ रुपये थी।

बैंक ने साथ ही कहा कि उसके सभी संबद्ध बैंक का शुद्ध लाभ इस दौरान 15 फीसदी से अधिक बढ़ा और 2,777 करोड़ रुपये से बढ़कर 3,200 करोड़ रुपये हो गया।

सभी गैर बैंकिंग सहायक कंपनियों का शुद्ध लाभ भी करीब 13 फीसदी बढ़कर 1,361 करोड़ रुपये से बढ़कर 1,534 करोड़ रुपये हो गया।

निवेश बैंकिंग सहायक कंपनी एसबीआई कैपिटल मार्केट्स लिमिटेड का समेकित शुद्ध लाभ 27 फीसदी से अधिक बढ़ा और 334 करोड़ रुपये हो गया, जो एक साल पहले 262 करोड़ रुपये था।

जनवरी-मार्च 2015 तिमाही में बैंक का शुद्ध लाभ 23 फीसदी से अधिक बढ़कर 3,742 करोड़ रुपये रहा, जो एक साल पहले समान अवधि में 3,041 करोड़ रुपये था।

आलोच्य तिमाही में शुद्ध ब्याज आय 14 फीसदी बढ़ी और 12,903 करोड़ रुपये से बढ़कर 14,711 करोड़ रुपये हो गई।

इस दौरान संचालन लाभ करीब 17 फीसदी बढ़कर 12,409 करोड़ रुपये रहा, तो एक साल पहले समान अवधि में 10,628 करोड़ रुपये था।

बाज़ार

इस साल 20 फीसदी महंगा होगा वाहनों का बीमा!

Published

on

  • नए-पुराने करोड़ों वाहन मालिकों पर पड़ेगा सीधा असर

नई दिल्‍ली। पेट्रोल और डीजल के बाद देश के करोड़ों वाहन मालिकों को महंगाई की एक और डोज़ मिल सकती है। बीमा कंपनियों ने इस साल इंश्‍योरेंस प्रीमियम बढ़ाने की योजना बना ली है। कंपनियां का इरादा थर्ड पार्टी मोटर इंश्‍योरेंस को 15 से 20 फीसदी तक बढ़ाने का है। बीमा विनियामक व विकास प्राधिकरण को बीमा कंपनियों की ओर से भेजे गए प्रस्ताव में कोरोना के कारण कंपनियों को हो रहे नुक़सान को देखते हुए थर्ड पार्टी इंश्‍योरेंस में 15 से 20 फीसदी बढ़ोतरी करने की मंजूरी देने की मांग की गई है। अगर कंपनियों की मांग मंजूर हुई तो इसका सीधा असर देश के करोड़ों वाहन मालिकों पर पड़ेगा। एक रिपोर्ट के मुताबिक: भारत में करीब 25 जनरल इंश्‍योरेंस कंपनियां हैं। कंपनियों को उम्‍मीद है कि उनके प्रस्ताव को इरडा हरी झंडा दे देगा। कंपनियों का मानना है कि कोरोना के कारण उनको बहुत नुकसान हो रहा है। इसी को देखते हुए थर्ड पार्टी इंश्‍योरेंस का मौजूदा प्रीमियम ठीक नहीं है और उन्‍हें घाटा हो रहा है। कुछ कंपनियां की स्थिति ऐसी हो गई है कि उनकी करदान क्षमता उनकी प्रिस्‍क्राइब्‍ड लिमिट से भी नीचे चली गई है। थर्ड पार्टी इंश्‍योरेंस क्‍लेम में भी बढ़ोतरी हुई है। इससे भी कंपनियों पर दबाव बढ़ा है। सुप्रीम कोर्ट के 2018 के एक निर्णय के बाद नये दोपहिया वाहनों को खरीदते वक्‍त ही पांच साल का थर्ड पार्टी इंश्‍योरेंस और चारपहिया वाहनों के लिए तीन साल का थर्ड पार्टी बीमा लेना अनिवार्य है। मोटर व्हीकल एक्‍ट के अनुसार जो भी वाहन सड़क पर चलता है, उसका थर्ड पार्टी इंश्‍योरेंस होना आवश्‍यक है। इंश्‍योरेंस प्रीमियम इरडा निर्धारित करता है। प्रीमियम में हर साल बदलाव होता है। पिछले दो साल से कोरोना के कारण इसमें कोई बदलाव नहीं हुआ है।

Continue Reading

देश

शेयर बाजार में उछाल, सेंसेक्स 61 हजार के पार

Published

on

नई दिल्ली। शेयर बाजार में बुधवार को लगातार तीसरे दिन रौनक देखने को मिल रही हैं। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) पर 30 अंकों के सूचकांक सेंसेक्स और व्यापक 50 अंकों वाले निफ्टी ने बुधवार को शुरूआती कारोबार में तेजी के साथ बढ़त हासिल की। सुबह 10.13 बजे सेंसेक्स अपने पिछले बंद 60,616 अंक से 0.6 फीसदी ऊपर 60,972 अंक पर कारोबार कर रहा था। यह 61,014 अंक पर खुला।

इसी तरह निफ्टी 18,156 अंक के पिछले बंद के स्तर से 0.6 प्रतिशत ऊपर 18,156 अंक पर कारोबार कर रहा था। यह 18,170 अंक पर खुला।
शुरूआती कारोबार के दौरान फायदे में हिंडाल्को, कोटक महिंद्रा बैंक, रिलायंस इंडस्ट्रीज, भारतीय स्टेट बैंक और आईसीआईसीआई बैंक के शेयर रहे हैं।
एनएसई के आंकड़ों के अनुसार, टाइटन, टीसीएस, सिप्ला, टेक महिंद्रा, विप्रो घाटे वाले शेयर रहे हैं। जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य निवेश रणनीतिकार, वी.के. विजयकुमार ने कहा, अल्पकालिक गति दर्शाती है कि बाजार पूरी तरह से बुल के नियंत्रण में है। आज तीन बड़ी आईटी कंपनियों से अपेक्षित अच्छे परिणाम बाजार को मिलने की संभावना है।

Continue Reading

देश

तेल बाजार में उतार-चढ़ाव के बीच पेट्रोल, डीजल की कीमतों में फिर उछाल

Published

on

नई दिल्ली । वैश्विक स्तर पर कच्चे तेल की कीमतों में उतार-चढ़ाव के बीच बेंचमार्क क्रूड 80 डॉलर प्रति बैरल से ऊपर जाने के साथ पेट्रोल और डीजल की कीमतों में मंगलवार को एक बार फिर तेजी आई। देश के सबसे बड़े ईंधन रिटेलर इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन के अनुसार, राष्ट्रीय राजधानी में डीजल की कीमतें 30 पैसे प्रति लीटर की वृद्धि के साथ 91.07 रुपये प्रति लीटर हो गईं, जबकि पेट्रोल की कीमतें 25 पैसे प्रति लीटर बढ़कर 102.64 रुपये प्रति लीटर हो गई।

डीजल की कीमतें अब पिछले 12 दिनों में से 9 बार बढ़ाई गई गई हैं, जिससे दिल्ली में इसकी खुदरा कीमत 2.45 रुपये प्रति लीटर बढ़ गई है। डीजल की कीमतों में शुक्रवार को 20 पैसे प्रति लीटर और फिर पिछले सप्ताह रविवार, सोमवार और मंगलवार को 25 पैसे प्रति लीटर और गुरुवार, शुक्रवार, शनिवार और रविवार को 30 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी की गई और मंगलवार को फिर 30 पैसे प्रति लीटर की दर से बढ़ी।
पेट्रोल की कीमतों में 5 सितंबर से स्थिरता बनी हुई थी, लेकिन तेल कंपनियों ने इस सप्ताह अपने पंप की कीमतों में बढ़ोतरी की, क्योंकि हाल ही में उत्पाद की कीमतों में तेजी आई है। पेट्रोल की कीमतों में भी पिछले आठ दिनों में से छह दिन बढ़ाई गई है, जिससे इसकी कीमत में 1.45 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी हुई है।
मुंबई में पेट्रोल की कीमत 25 पैसे प्रति लीटर बढ़कर 108.67 रुपये प्रति लीटर हो गई, जबकि डीजल की कीमत 98.80 रुपये प्रति लीटर के करीब पहुंच गई। देशभर में भी, पेट्रोल और डीजल में 20-30 पैसे प्रति लीटर की वृद्धि हुई, लेकिन स्थानीय करों के स्तर के आधार पर उनकी खुदरा दरें भिन्न रहीं।

Continue Reading

Trending

%d bloggers like this: