Connect with us

बाजार

पहली बार 9000 अंकों के पार पहुंचा निफ्टी(Nifty)

Published

on

मुंबई। शेयर बाजारों में कारोबार के दौरान निफ्टी (Nifty) ने आज पहली बार नौ हजार की ऐतिहासिक ऊंचाई को छूआ। दोपहर करीब 3 बजे निफ्टी 49 अंकों के उछाल के साथ 9006 पर पहुंच गया, वहीं सेंसेक्स 171.87 के उछाल के साथ 29631 पर कारोबार कर रहा है। इससे पूर्व सुबह शेयर बाजार गिरावट के साथ खुले थे। कमजोर आर्थिक आंकड़ों से निराश कोषों एवं निवेशकों की ओर से मुनाफावसूली किए जाने से बंबई शेयर बाजार का सेंसेक्स आज के शुरुआती कारोबार में 75 अंक कमजोर हो गया था।
बंबई शेयर बाजार का प्रमुख सूचकांक बीएसई-30 में पिछले तीन कारोबारी सत्रों के दौरान 712.49 अंकों की बढ़ोतरी दर्ज की गयी थी, जो आज के शुरुआती कारोबार में 75.64 अंक अथवा 0.26 फीसदी कमजोर होकर 29,383.50 अंक पर आ गया था।

देश

शेयर बाजार में उछाल, सेंसेक्स 61 हजार के पार

Published

on

नई दिल्ली। शेयर बाजार में बुधवार को लगातार तीसरे दिन रौनक देखने को मिल रही हैं। नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (एनएसई) पर 30 अंकों के सूचकांक सेंसेक्स और व्यापक 50 अंकों वाले निफ्टी ने बुधवार को शुरूआती कारोबार में तेजी के साथ बढ़त हासिल की। सुबह 10.13 बजे सेंसेक्स अपने पिछले बंद 60,616 अंक से 0.6 फीसदी ऊपर 60,972 अंक पर कारोबार कर रहा था। यह 61,014 अंक पर खुला।

इसी तरह निफ्टी 18,156 अंक के पिछले बंद के स्तर से 0.6 प्रतिशत ऊपर 18,156 अंक पर कारोबार कर रहा था। यह 18,170 अंक पर खुला।
शुरूआती कारोबार के दौरान फायदे में हिंडाल्को, कोटक महिंद्रा बैंक, रिलायंस इंडस्ट्रीज, भारतीय स्टेट बैंक और आईसीआईसीआई बैंक के शेयर रहे हैं।
एनएसई के आंकड़ों के अनुसार, टाइटन, टीसीएस, सिप्ला, टेक महिंद्रा, विप्रो घाटे वाले शेयर रहे हैं। जियोजित फाइनेंशियल सर्विसेज के मुख्य निवेश रणनीतिकार, वी.के. विजयकुमार ने कहा, अल्पकालिक गति दर्शाती है कि बाजार पूरी तरह से बुल के नियंत्रण में है। आज तीन बड़ी आईटी कंपनियों से अपेक्षित अच्छे परिणाम बाजार को मिलने की संभावना है।

Continue Reading

देश

पहली तिमाही में 11 राज्यों ने पूंजीगत व्यय का लक्ष्य पूरा किया

Published

on

नई दिल्ली । वित्त वर्ष 2021-22 की पहली तिमाही में पूंजीगत व्यय का जो लक्ष्य वित्त मंत्रालय ने तय किया था, उसे आंध्र प्रदेश, बिहार, छत्तीसगढ़, हरियाणा, केरल, मध्य प्रदेश, मणिपुर, मेघालय, नगालैंड, राजस्थान और उत्तराखंड जैसे 11 राज्यों ने पूरा कर लिया है। इन राज्यों को प्रोत्साहन के रूप में 15,721 करोड़ की अतिरिक्त रकम व्यय विभाग से उधार लेने की अनुमति दे दी गई है। खुले बाजार से उधार लेने की अतिरिक्त अनुमति भी दी गई है। इसके तहत राज्य सरकारें अपने सकल राज्य घरेलू उत्पाद (जीएसडीपी) के 0.25 प्रतिशत के बराबर उधार ले सकती हैं। इस तरह राज्यों को अतिरिक्त वित्तीय संसाधन जुटाने में मदद मिलेगी और वे अपना पूंजीगत व्यय और बढ़ा सकते हैं।

पूंजीगत व्यय के बड़े बहुस्तरीय प्रभाव होते हैं। उससे अर्थव्यवस्था की भावी उत्पादकता क्षमता बढ़ती है और परिणामस्वरूप आर्थिक विकास की दर ऊंची हो जाती है। लिहाजा, उधार लेने की अधिकतम सीमा (एनबीसी) के हवाले से वित्त वर्ष 2021-22 के लिये राज्यों के लिए इसकी सीमा उनके जीएसडीपी का चार प्रतिशत तय की गई है।
इसके अलावा जीएसडीपी का 0.50 प्रतिशत वित्त वर्ष 2021-22 के दौरान राज्यों द्वारा किए जाने वाले वृद्धिशील पूंजीगत व्यय के लिए रखा गया है। वृद्धिशील पूंजीगत व्यय का लक्ष्य पात्रता रखने वाले हर राज्य के लिये व्यय विभाग ने निर्धारित किया है।
वृद्धिशील उधारी के लिए पात्र बनने के लिये राज्यों के लिए जरूरी है कि वे वित्त वर्ष 2021-22 की पहली तिमाही के अंत तक 2021-22 के लिए निर्धारित लक्ष्य का कम से कम 15 प्रतिशत, दूसरी तिमाही तक 45 प्रतिशत, तीसरी तिमाही तक 70 प्रतिशत और 31 मार्च 2022 तक 100 प्रतिशत हासिल कर लें।
राज्यों के पूंजीगत व्यय की अगली समीक्षा, व्यय विभाग दिसंबर, 2021 में करेगा। इस दौर में राज्यों द्वारा 30 सितंबर, 2021 तक अर्जित पूंजीगत व्यय का मूल्यांकन किया जाएगा।
तीसरी समीक्षा मार्च 2022 में की जाएगी। इसके लिए वित्त वर्ष 2021-22 की पहली तीन तिमाहियों के दौरान राज्यों द्वारा किए किये पूंजीगत व्यय को आधार बनाया जाएगा।
जीएसडीपी के 0.50 प्रतिशत की उधारी की अधिकतम सीमा से जुड़े पूंजीगत व्यय की अनुमति केवल उन्हीं राज्यों को मिलेगी, जिन्होंने 30 सितंबर, 2021 तक कम से कम 45 प्रतिशत का लक्ष्य या 31 दिसंबर, 2021 तक 70 प्रतिशत का लक्ष्य प्राप्त कर लिया हो।
जून, 2022 को राज्यों द्वारा किए जाने वाले वास्तविक पूंजीगत व्यय की अंतिम समीक्षा की जाएगी। वित्त वर्ष 2021-22 के लिए पूंजीगत व्यय के निर्धारित लक्ष्य के आधार पर वित्त वर्ष 2021-22 के दौरान वास्तविक पूंजीगत व्यय में कमी देखी जाएगी और उसे वित्त वर्ष 2022-23 में राज्यों के लिए तय उधारी की अधिकतम सीमा से समायोजित कर दिया जाएगा।

Continue Reading

बाजार

सैमसंग गैलेक्सी वॉच4 आया चलते-फिरते बीपी मॉनिटरिंग सुविधा के साथ

Published

on

सियोल/नई दिल्ली। सैमसंग ने बुधवार को गैलेक्सी वॉच4 और गैलेक्सी वॉच4 क्लासिक को लॉन्च किया। डिवाइड की सबसे बड़ी खासियत यह है कि यह उपयोगकर्ताओं को चलते-फिरते, काम पर या घर पर अपने रक्तचाप की निगरानी करने की सुविधा देता है। गैलेक्सी वॉच4 सैमसंग के अभूतपूर्व बायोएक्टिव सेंसर से लैस है। यह नया 3-इन-1 सेंसर तीन शक्तिशाली स्वास्थ्य सेंसर- ऑप्टिकल हार्ट रेट, इलेक्ट्रिकल हार्ट और बायोइलेक्ट्रिकल इम्पीडेंस एनालिसिस को ठीक से चलाने के लिए सिंगल चिप का उपयोग करता है, ताकि उपयोगकर्ता अपने रक्तचाप की निगरानी कर सकें, एफिब अनियमित दिल की धड़कन का पता लगा सकें, उनके रक्त ऑक्सीजन स्तर को माप सकें।

गैलेक्सी वॉच4 क्लासिक ब्लूटूथ संस्करणों के लिए 349.99 डॉलर और एलटीई मॉडल के लिए 399.99 डॉलर से शुरू होगा और काले और चांदी के रंगों में 42 मिमी और 46 मिमी वेरिएंट में उपलब्ध होगा। डिवाइस 11 अगस्त से चुनिंदा बाजारों में प्री-ऑर्डर के लिए उपलब्ध हैं, जिसकी खुदरा उपलब्धता 27 अगस्त से शुरू होगी। सैमसंग इलेक्ट्रॉनिक्स के मोबाइल कम्युनिकेशंस बिजनेस के अध्यक्ष और प्रमुख डॉ टीएम रोह ने कहा, “हमने गैलेक्सी वॉच सीरीज के लिए अविश्वसनीय वृद्धि देखी है, क्योंकि उपभोक्ताओं ने स्वास्थ्य लाभ और पहनने योग्य वस्तुओं की सुविधा की खोज की है। उन्होंने कहा, “हम समझते हैं कि वेलनेस का रास्ता हर किसी के लिए अलग होता है, इसलिए हमने लोगों को उनकी संपूर्ण फिटनेस के बारे में गहरी और अधिक उपयोगी समझ देने के लिए हेल्थ और वेलनेस सुविधाओं का एक मजबूत सूट बनाया है।
बिल्कुल नया ‘बॉडी कंपोजिशन’ माप उपकरण उपयोगकर्ताओं को उनके सामान्य स्वास्थ्य और फिटनेस की गहरी समझ देता है, जिसमें कंकाल की मांसपेशी, बेसल चयापचय दर, शरीर में पानी और शरीर में वसा प्रतिशत जैसे प्रमुख माप होते हैं।
कंपनी ने कहा, “उपयोगकर्ता कलाई से शरीर की संरचना को केवल दो अंगुलियों से आसानी से जांच सकते हैं। लगभग 15 सेकंड में, आपकी घड़ी का सेंसर 2,400 डेटा पॉइंट कैप्चर करेगा। बीपी मॉनिटरिंग जैसी कुछ नई सुविधाएं शुरुआत में चुनिंदा बाजारों में उपलब्ध होंगी। कंपनी ने कहा कि गैलेक्सी वॉच4 सीरीज में गैलेक्सी वॉच में पहला 5एनएम प्रोसेसर है – 20 प्रतिशत तेज सीपीयू और 50 प्रतिशत अधिक रैम और पिछली पीढ़ी की तुलना में 10 गुना तेज जीपीयू।
सैमसंग ने बताया, “हमने डिस्प्ले पर रिजॉल्यूशन को 450 पिक्सल तक बढ़ा दिया है, इसलिए विजुअल क्रिस्पर और अधिक विशिष्ट हैं और प्रभावशाली 16जीबी मेमोरी के साथ, आपके पास डाउनलोड और स्टोर करने के लिए पर्याप्त स्टोरेज होगी।
उपयोगकर्ता के पास 40 घंटे तक की बैटरी लाइफ हो सकती है, और 30 मिनट की चार्जिग 10 घंटे तक की बैटरी स्टोरेज दे सकती है।

Continue Reading

Trending

%d bloggers like this: