Connect with us

ग़ाजियाबाद

कांग्रेसियों की आंख के तारे बने मुख्यमंत्री

Published

on

  • एक नेशनल समाचार चैनल में दिखाये गये इन्टरव्यूह के बाद बदला नजरिया

गाजियाबाद। राजनीति में कब क्या हो जाये इसके बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता। वर्ष-2014 लोकसभा चुनाव में करारी हार का सामना कर चुकी कांग्रेस को ही ले लीजिए, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जहां कांग्रेसियों के कोप के भाजन बन रहे हैं वहीं सूबे के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव स्थानीय कांग्रेसियों की आंख के तारे बने हुए हैं।

हाल ही में एक नेशनल समाचार चैनल पर दिखाये गये मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के इन्टरव्यूह को देखने के बाद कांग्रेसियों की शब्दाबली में खासा परिवर्तन हो गया है और स्थानीय कांग्रेसी जहां मौका मिल रहा है तो सीएम श्री यादव की तारीफ करने से भी नहीं चूक रहे हैं। कांग्रेसी गाहे बगाहे अब कहने लगे हैं कि नेता जी मुलायम सिंह यादव ने मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को सूबे की सत्ता सौंपकर आगामी 40 वर्षो की एक राजनीतिक विरासत सौंप दी हैं और निरंतर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव में खासे बदलाव देखने को मिल रहे हैं।

बता दें कि पिछले दिनों मुख्यमंत्री अखिलेश यादव का इन्टरव्यूह एक नेशनल समाचार चैनल पर दिखाया गया था। समाचार चैनल पर लिए गए इन्टरव्यूह के दौरान तमाम तरीके के सवाल सीएम श्री यादव से किये गये थे। एक सवाल इन्टरव्यूह के दौरान पूछा गया था कि आपकी नजर में देश का कौन प्रधानमंत्री सबसे अच्छा है, मनमोहन सिंह या नरेंद्र मोदी। पूछे गये सवाल पर बिना समय गवाये मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने देश के सफल प्रधानमंत्री के रूप में मनमोहन सिंह को बेहतर प्रधानमंत्री बताया था। इसके अलावा इन्टरव्यूह के दौरान पूछा गया था कि आपकों सबसे ज्यादा कौन परेशान करता है, शिवपाल यादव या फिर कैबिनेट मंत्री आजम खां, इस सवाल को मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने कोई उत्तर नहीं दिया था।

तीसरे सवाल के रूप में पूछा गया था कि आप अपने को किसके बेहद करीब मानते हैं, नेताजी मुलायम सिंह यादव या फिर प्रोफेसर रामगोपाल यादव के इस सवाल पर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सधा हुआ जबाव दिया था और सवाल देने के दौरान अपने को दोनों के बेहद करीब बताया था। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से पूछा गया था कि आप आने वाले ुदस वर्षो में सीएम बने रहना पंसद करेंगे या फिर देश के प्रधानमंत्री के रूप में बनना पंसद करेंगे। इस सवाल का भी सीएम श्री यादव ने खूबसूरती से जबाव दिया था और कहा था कि उत्तर प्रदेश से ही देश का प्रधानमंत्री बनकर जाता है तो ऐसे में वह उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं, समय पर छोड़ दीजिए, अंत में उन्होंने आगामी दस वर्षो के दौरान उत्तर प्रदेश का सफल मुख्यमंत्री बनने का उत्तर दिया था।

मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के इन्हीं सवालों के जबावों को सुनकर सपा के नेता जहां गदगद नजर आ रहे थे, वहीं अब कांग्रेसी भी मुख्यमंत्री श्री यादव के फेन हो गये हैं और कांग्रेसियों का कहना है कि मुख्यमंत्री बनने से लेकर वर्तमान में मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की सोच में अमूल चूल परिवर्तन देखने को मिल रहा है। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने उत्तर प्रदेश को बेहतर संभालने की खूबी है और उनमें निरंतर राजनीतिक सोच पहले से अधिक बढ़ती जा रही है जो समाजवादी पार्टी के लिए साकारात्मक संदेश है।

उत्तर प्रदेश

और जब हिप्नोटाईज हो गये शहर विधायक अतुल गर्ग

Published

on

बोलने लगे जादूगर की भाषा और रखा उनके पक्ष में तर्क
गाजियाबाद (करंट क्राइम)। कभी कभी ऐसा होता है कि शिकारी खुद शिकार हो जाता है। शहर विधायक अतुल गर्ग शब्दों के खिलाड़ी हैं। उनके शब्द हमेशा सामने वाले को सम्मोहित कर लेते हैं। उनके पास शब्दों का एक ऐसा जादू है जो सामने वाले को हिप्नोटाईज करने की क्षमता रखता है। वो अपने तर्कों से सुनने वालों को मंत्रमुग्ध कर देते हैं।
हिप्नोटाईज को आम बोलचाल की भाषा में बुद्धि बांधना कहा जाता है। इस कला में शहर विधायक अतुल गर्ग पारंगत माने जाते हैं। उनके पास आगंतुक जाता अलग विचार से है लेकिन उधर से लौटकर आता अलग विचार से है। मगर शनिवार को कुछ ऐसा हुआ कि शब्दों के जादूगर को एक कार्यक्रम में शर्मा जादूगर ने हिप्नोटाईज कर लिया। अतुल गर्ग यहां मैजिक देखने के लिए विद फैमिली गये थे और वो कोई लॉजिक ही नहीं दे पाये और मैजिक वालों की कला में आ गये।
खुद शहर विधायक अतुल गर्ग ने बताया कि उन्हें हिप्नोटाईज कर दिया गया था। अब जब शहर विधायक अतुल गर्ग हिप्नोटाईज हुए तो उन्होंने वही बोला जो जादूगर ने बुलवाना था। अतुल गर्ग ने जादू के शो में बताया कि जादूगर हमारे मेहमान हैं, वो हमारे शहर में आये हैं। जबतक जादूगर शर्मा गाजियाबाद में हैं तब तक हमें उनका पूरा ध्यान रखना है।
बात यहीं खत्म नही हुई और हिप्नोटाईज का असर ये हुआ कि शहर विधायक ने जादूगर का पक्ष लिया और ये अपील कर दी कि 45 दिन तक उनका शो शहर में चलेगा और कोई भी फ्री के टिकट या पास को ना कहे। लोग सुनकर चकित और बाद में शहर विधायक अधिक चकित कि ये कौन से शब्द थे जो उन्होंने ना जाने किस झोंक में कहे। हिप्नोटाईज इसी को कहते हैं और शहर विधायक अतुल गर्ग हिप्नोटाईज हो गये।
जब सफेद कबूतर उड़ाया और नया संदेश सियासत को बताया
शहर विधायक अतुल गर्ग मैजिक शो में पहुंचे और यहां जादूगर ने उद्घाटन जब उनसे करवाया तो सफेद रंग का कबूतर अतुल गर्ग के हाथों से उड़वाया। सफेद कबूतर वैसे भी शांति का प्रतीक होता है और सफेद कबूतर ने ये संदेश भी दिया कि भगवा गढ़ की सियासत को वैसे भी शांति वाले सफेद कबूतर की जरूरत है। क्योंकि कबूतर उड़ेगा तभी शांति आयेगी। लेकिन कबूतर भी जादूगर के जादू में था। उसे उड़ाया भले ही शहर विधायक अतुल गर्ग ने लेकिन वो उड़ने की फॉरमल्टी पूरी कर वापस स्टेज पर जाकर जादूगर के पास बैठ गया।

Continue Reading

अन्य ख़बरें

गाजियाबाद में नशा मुक्ति केंद्र से 40 मरीज फरार

Published

on

मालिक और मैनेजर को पहले पीटा और फिर भागे, 20 मरीजों पर हमले की ऋकफ
गाजियाबाद। एक नशा मुक्ति केंद्र से करीब 40 मरीज फरार हो गए। आरोप है कि मरीजों ने केंद्र संचालक और मैनेजर पर हमला बोल दिया। इसके बाद वे भाग निकले। ये घटना 25 नवंबर की है। जिसमें शुक्रवार देर रात थाना ट्रोनिका सिटी में संचालक ने ऋकफ दर्ज कराई है।
ट्रोनिका सिटी थाना क्षेत्र स्थित गांव हरमनपुर के जंगल में ‘न्यू सेलेन्पी फाउंडेशन’ नाम से एक नशा मुक्ति केंद्र चलता है। इसका मालिक नई दिल्ली के गांव मटियाला निवासी सुनील कुमार है। सुनील के मुताबिक, 25 नवंबर को अपनी मैनेजर प्रियंका के साथ केंद्र पर मौजूद थे।
रात करीब साढ़े 8 बजे केंद्र में इलाज कराने आए 12-13 मरीज एकत्र होकर बाहर आ गए और जान से मारने की नीयत से दोनों पर हमला बोल दिया। इस मारपीट के दौरान कुल 40 मरीज केंद्र से भाग गए।
केंद्र मालिक सुनील कुमार ने मारपीट करने वाले मरीज अब्बास, हैदर, महबूब, अंकित, अमित, समीर, कपिल व करीब 12-13 अन्य के खिलाफ कढउ सेक्शन-147, 148, 323, 307 में थाना ट्रोनिका सिटी में मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस ने बताया कि नशा मुक्ति केंद्र संचालक से मरीजों की सूची ली जा रही है। इस आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।
पूर्व में विवादित रहे हैं ये केंद्र
3 जुलाई 2021 को मुरादनगर थाना क्षेत्र के गांव असालनगर स्थित नशा मुक्ति केंद्र की खिड़की तोड़कर 14 मरीज भाग गए थे। हालांकि आठ मरीज खुद से लौट आए और छह मरीजों को पुलिस ने ढूंढ निकाला था। मरीजों का कहना था कि 1 जुलाई 2021 को एक मरीज की मौत हो जाने से वे घबरा गए थे और इस वजह से भाग गए थे।
अक्तूबर 2019 में गाजियाबाद के एक नशा मुक्ति केंद्र संचालक साबिर खान की मरीजों ने पीट-पीटकर हत्या कर दी थी। आरोप था कि वो मरीजों से अभद्रता से पेश आता था। अच्छा खाना नहीं देता था।
जो मरीज विरोध करता था, उसके साथ मारपीट होती थी। इस मामले में कई मरीजों की गिरफ्तारी हुई और वे जेल भी गए थे।

Continue Reading

उत्तर प्रदेश

वार्ड आरक्षण फाइनल होने के बाद कांग्रेस महानगर अध्यक्ष ने किए करंट क्राइम से दावे

Published

on

बोले सभी 100 वार्डों पर लड़ेंगे कांग्रेस के उम्मीदवार
गाजियाबाद (करंट क्राइम)। वीरवार की देरशाम उत्तर प्रदेश शासन की तरफ से निकाय चुनाव का आरक्षण फाइनल कर दिया गया। निकाय चुनाव के फाइनल होने की लिस्ट देररात तक जारी की गई। देररात तक जारी की गई लिस्ट के बाद गाजियाबाद नगर निगम के भी 100 वार्डो का आरक्षण तय कर दिया गया। 100 वार्डो का आरक्षण तय किए जाने के बाद सभी राजनैतिक दलों की ओर से तैयारियां जोरशोर से शुरू कर दी गई हैं। कांग्रेस पार्टी की तरफ से भी 100 वार्डो के आरक्षण तय होने के बाद अब प्रत्याशियों के चयन की प्रक्रिया को तेज कर दिया गया है। कांग्रेस के महानगर अध्यक्ष लोकेश चौधरी ने करंट क्राइम से बातचीत में खुलकर कहा है कि कांग्रेस इस बार निगम के चुनाव में बेहतर प्रदर्शन करने जा रही है। कांग्रेस पूर्व में भी दूसरा सबसे बड़ा दल बनकर उभरी थी और इस बार कांग्रेस चुनाव में अच्छे रिजल्ट देने जा रही है। करंट क्राइम से बातचीत के दौरान कांग्रेस महानगर अध्यक्ष लोकेश चौधरी ने कहा कि चुनाव में इस बार मजबूत प्रत्याशियों को मैदान में उतारा जायेगा।

लोकेश चौधरी के ये हैं नगर निगम चुनाव को लेकर दावे
100 सीटों पर लड़ेंगे
कांग्रेस उम्मीदवार
(करंट क्राइम)। कांग्रेस महानगर अध्यक्ष लोकेश चौधरी ने करंट क्राइम से बातचीत में कहा है कि इस बार नगर निगम चुनाव में कांग्रेस सभी 100 वार्डो पर उम्मीदवार उतारने जा रही है। कांग्रेस का फोकस मजबूत उम्मीदवारों को चुनाव मैदान में उतारना रहेगा। उनके पास अभी तक सभी वार्डो पर दावेदारियां आ चुकी हैं और अब जो निर्देश पीसीसी की तरफ से जारी किए जाएंगे उनके तहत चुनाव लड़वाया जायेगा।
साढ़े तीन सौ से अधिक हैं 100 वार्डो में दावेदारियां
(करंट क्राइम)। कांग्रेस महानगर अध्यक्ष लोकेश चौधरी ने कहा है कि संगठन पिछले छह माह से निगम चुनाव की तैयारियों में जुटा हुआ है। संगठन की ओर से 100 वार्डो पर दावेदारियां ली गई हैं। 100 वार्डो पर कांग्रेस के पास साढ़े तीन सौ से अधिक दावेदारियां हैं। प्रत्येक वार्ड पर मजबूत चेहरों को मौका दिया जायेगा।
जो होगा मजबूत वो होगा कांग्रेस का चेहरा
(करंट क्राइम)। महानगर अध्यक्ष लोकेश चौधरी ने दावा किया है कि इस बार जहां कांग्रेस सभी 100 वार्डो पर प्रत्याशी उतारने जा रही है वहीं कांग्रेस उन चेहरों को तव्वजों देगी जो मजबूत होंगे। लोकेश चौधरी का कहना है कि सामान्य सीटों पर यदि कोई मजबूत होगा तो उसे प्रत्याशी बनाने से कोई गुरेज नहीं किया जायेगा। कांग्रेस जात-पात और धर्म आधारित राजनीति नहीं करती है।
पहले के मुकाबले अधिक जीत दर्ज
करायेंगे कांग्रेस के उम्मीदवार
(करंट क्राइम)। लोकेश चौधरी का कहना है कि कांग्रेस इस चुनाव में जहां मजबूत प्रत्याशी उतारने जा रही है वहीं कांग्रेस पहले के मुकाबले इस बार अधिक अपने प्रत्याशियों को जिताकर सदन में भेजेगी। कांग्रेस आलाकमान के एक एक निर्देश का पालन किया जायेगा और मजबूती के साथ कांग्रेस इस चुनाव में मैदान में रहेगी।

Continue Reading

Trending

%d bloggers like this: