Connect with us

उत्तर प्रदेश

गाजियाबाद में बोरे में बंद लाश नहर से मिली; झगड़े में हुआ कत्ल

Published

on

गाजियाबाद (करंट क्राइम)। मुरादनगर क्षेत्र से लापता कृष्णा नामक व्यक्ति की हत्या कर दी गई। पांच दिन बाद शनिवार को उसकी लाश मुरादनगर गंगनहर में सौंदा पुल के पास से बरामद हुई है। तीन युवकों ने पहले शराब पिलाई, फिर गला दबाकर बेहोश किया और फिर बलकटी से गर्दन रेतकर हत्या कर दी। इसके बाद लाश को एक बोरे में बंद किया। बोरे में 4 ईंटें भी डाली, जिससे लाश पानी से बाहर न आने पाए और फिर बोरे को नहर में डुबो दिया। पुलिस ने दोनों हत्यारोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। खुलासा हुआ कि
पुराने झगड़े का बदला लेने के लिए ये हत्या की गई।

22 जनवरी की रात लापता हुआ था कृष्णा
मुरादनगर थाना क्षेत्र में डिडौली गांव निवासी कृष्णा 22 जनवरी की रात करीब 11 बजे एक मांगलिक कार्यक्रम में गया था, लेकिन फिर लौटा नहीं। परिजनों ने उसकी खूब तलाश की, मगर कुछ पता नहीं चला। तलाश के दौरान परिजनों को कृष्णा के जूते गांव निवासी एक व्यक्ति के कमरे में पड़े मिले। इस कमरे से नहर तक थोड़ी-थोड़ी दूरी पर खून के छींटे बिखरे मिले। आशंका जताई गई कि हत्या करके शव को नहर में डाल दिया गया है। इधर, जिस व्यक्ति के कमरे में जूते मिले, वो भी फरार था।

बोरे में ईंटें भरी, जिससे लाश पानी से बाहर न आए
कृष्णा के पिता को पता चला कि उनके बेटे की हत्या में गांव के ही मोनू और सुमित उर्फ छोटू का हाथ है। उन्होंने दोनों के खिलाफ 27 जनवरी को थाना मुरादनगर में हत्या की एफआईआर दर्ज करा दी। पुलिस ने तुरंत ही दोनों को उठा लिया। कड़ाई से पूछताछ हुई तो दोनों ने हत्या करके शव नहर में डालने की बात उगल दी। शनिवार को पुलिस व गोताखोरों ने कई घंटे सर्च आॅपरेशन के बाद मुरादनगर नहर में सौंदा पुल के नजदीक से कृष्णा की लाश बरामद कर ली। ये लाश प्लास्टिक के डबल बोरे में पैक की गई थी। मफलर से गला दबाया गया था।

दो-ढाई साल पहले हुआ था झगड़ा
डीसीपी रवि कुमार ने बताया, करीब दो-ढाई साल पहले मृतक कृष्णा का एक आरोपी सुमित उर्फ छोटू के पिता से किसी बात पर झगड़ा हो गया था। इसमें सुमित के पिता अनिल को सिर में चोटें आई थीं। उसी रंजिश का बदला लेने के लिए सुमित ने गांव के ही मोनू, पुनीत उर्फ कालू संग मिलकर मर्डर किया। पुलिस ने तीनों हत्यारोपियों को गिरफ्तार कर लिया है।

उत्तर प्रदेश

साल 2023 में 55 थानों वाला हो जाएगा पुलिस कमिश्नरेट गाजियाबाद!

Published

on

35 से अधिक एसीपी स्तर के अधिकारियों को भी मिलेगी तैनाती
गाजियाबाद (करंट क्राइम)। पुलिस कमिश्नरेट सिस्टम को मजबूत और पहले से अधिक क्रियाशील बनाने के लिए साल 2023 के अंत तक गाजियाबाद पुलिस कमिश्नरेट के अंतर्गत 55 थानों को चालू कर दिया जाएगा। वर्तमान में गाजियाबाद पुलिस कमिश्नरेट के अंतर्गत 23 थाने बने हुए हैं, जबकि 10 नए थानों को जल्द शुरू करने के लिए शासन को प्रस्ताव भेजा जा चुका है।
वहीं पुलिस के बेहद करीबी सूत्र बता रहे हैं कि गाजियाबाद के शहर, रूरल और ट्रांस हिंडन जोन में थानों की कुल संख्या 55 हो जाएगी। इसी के साथ गाजियाबाद में एसीपी स्तर के अधिकारियों की संख्या में भी इजाफा होगा। गाजियाबाद पुलिस कमिश्नरेट के अंतर्गत 25 से अधिक सर्किल भी होने के कयास लगाया
जा रहा है।
वर्तमान में कुल 9 सर्किल हैं। सर्किल बढ़ने के साथ ही यहां एसीपी स्तर के अधिकारियों को नई तैनाती की जा सकती है जिसकी कुल संख्या 35 तक जा सकती है।
वर्तमान में गाजियाबाद पुलिस कमिश्नरेट के अंतर्गत एसीपी स्तर के 17 अधिकारियों के लिए पद सृजित किए गए हैं, जो साल 2023 के अंत तक बढ़कर 35 तक
पहुंच जाएंगे।
प्रभारी मंत्री के सामने उठा था थानों व सर्किल बढ़ाने का मुद्दा
बीते दिनों उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्री और गाजियाबाद के प्रभारी मंत्री के रुप में पहुंचे, उत्तर प्रदेश पुलिस के पूर्व आईपीएस अधिकारी असीम अरुण के जिला मुख्यालय में हुए कार्यक्रम के दौरान गाजियाबाद पुलिस कमिश्नरेट के अधिकारियों ने उनको जानकारी दी थी कि गाजियाबाद कमिश्नरेट में लगातार थानों की संख्या बढ़ाने का कार्य चल रहा है। साल 2023 के अंत तक जिले के तीनों जोन को मिलाकर थानों की कुल संख्या 55 तक पहुंच सकती है।
वहीं एसीपी स्तर के अधिकारियों की संख्या भी शासन द्वारा 17 तय की गई की गई थी। जिससे भविष्य में बढ़ाया जाना है। वहीं एसीपी स्तर के अधिकारियों को तैनाती देने के लिए नए सर्किल वितरित किए जाएंगे।
सर्किल आॅफिसर पर रहेगा दो थानों का प्रभार !
पुलिस कमिश्नरेट गाजियाबाद के अंतर्गत 55 थानों को शुरू कर दिया जाएगा। तो प्रत्येक सर्किल आॅफिसर के अंतर्गत 2-2 थानों का सर्किल रहेगा। यह समीकरण सिटी से लेकर नदियापार और देहात के थानाक्षेत्रों में भी लागू होंगे। वहीं एसीपी स्तर के अधिकारियों के पास भी दो महत्वपूर्ण जिम्मेदारी रहने की संभावना जताई जा रही है।

Continue Reading

उत्तर प्रदेश

लोनी विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने ली बड़ी गारंटी

Published

on

कहा-साधु संतों के आशीर्वाद से होली के बाद लोनी होगी अपराध मुक्त
वरिष्ठ संवाददाता (करंट क्राइम)

गाजियाबाद। लोनी विधायक नंदकिशोर गुर्जर कई दिनों की खामोशी के बाद फिर से फॉर्म में आये हैं। उनके घर पर हरिद्वार से साधु संत आये हैं। शुक्रवार को लोनी विधायक नंदकिशोर गुर्जर के घर पर साधु संतों का डेरा था। विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने साधु संतों की सेवा की और बताया कि ये सभी साधु नाथ पंथ के साधु हैं और एक सप्ताह तक यानी महाशिवरात्रि तक लोनी में ही हवन करेंगे। विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने कहा कि इस हवन से लोनी में राक्षस प्रवृति के लोग, असुरी शक्तियां, भटकती आत्मायें सभी को तर्पण दिया जायेगा।
जिनकी हत्या हुई है और अकाल मौत को प्राप्त हुए हैं उनकी आत्मा की शांति के लिए भी तर्पण होगा। लेकिन जिन लोगों ने आपराधिक कृत्य किये हैं उनके नष्ट होने का आह्वान इस हवन में होगा। ये यज्ञ अपने आप में महत्वपूर्ण है। लोनी विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने गारंटी ली कि आने वाली होली के बाद इस हवन के इफैक्ट दिखाई देंगे। लोनी गारंटी से अपराध मुक्त हो जायेगी। वैसे अभी भी पहले की तुलना में लोनी में क्राइम
कम है।
लोनी विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने यह कहकर अधिकारियों का ध्यान हिन्दी भवन में उस समय अपनी ओर खींचा जब उन्होंने कहा कि राम राज्य या तो लोनी में है या फिर अयोध्या
में है।

Continue Reading

उत्तर प्रदेश

रैपिड रेल का उद्घाटन करने आ सकते हैं गाजियाबाद में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी

Published

on

वरिष्ठ संवाददाता (करंट क्राइम)

गाजियाबाद। रैपिड रेल प्रोजेक्ट पूरा हो चुका है और इस रूट पर रैपिड रेल का ट्रायल रन चल रहा है। बताया जाता है कि ट्रायल रन भी लगभग पूरा हो चुका है और स्टेशन का काम भी पूरा है। ये एक बड़ा प्रोजेक्ट है और केन्द्रीय मंत्री जनरल वीके सिंह के लोकसभा क्षेत्र में इसे एक बड़ा तोहफा माना जा रहा है। लोकसभा सांसद जनरल वीके सिंह ने रैपिड रेल प्रोजेक्ट को लेकर केन्द्र सरकार में विशेष प्रयास किये और एक तरह से यह प्रोजेक्ट गाजियाबाद में लोकसभा सांसद जनरल वीके सिंह की देन कहा जा सकता है। अब गाजियाबाद ऐसा शहर हो गया है जहां रैपिड रेल जनता के लिए समर्पित की जानी है। सूत्र बता रहे हैं कि मार्च महीने में रैपिड रेल का उद्घाटन हो सकता है और इस बात की प्रबल संभावना जताई जा रही है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी रैपिड रेल का उद्घाटन करने के लिए आ सकते हैं। सूत्र बताते हैं कि रैपिड रेल का उद्घाटन मार्च के महीने में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कर कमलों द्वारा होगा। कयास ये भी लगाये जा रहे हैं कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जब गाजियाबाद आयेंगे तो वो रैपिड रेल का उद्घाटन साहिबाबाद से करेंगे या दुहाई स्टेशन को इसके लिए चुना जायेगा।

Continue Reading

Trending

%d bloggers like this: