Connect with us

स्पोर्ट्स

निखारे, संवारे गए तो मेरी जगह ले सकते हैं उमेश : जहीर

Published

on

मुंबई| अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से बाएं हाथ के सीम गेंदबाज जहीर खान का संन्यास लेना भारतीय टीम में एक खालीपन छोड़ गया है।(latest cricket hindi news) अब सवाल उठने लगा है कि अगला जहीर कौन होगा? इसका जवाब खुद जहीर ने ही दे दिया है। जहीर मानते हैं कि मौजूदा स्पीडस्टर उमेश यादव को अगर सलीके से निखारा जाए और लगातार मौका दिया जाए तो वह उनके उत्तराधिकारी हो सकते हैं।

भारत के लिए 14 साल के करियर में 92 टेस्ट मैच खेलते हुए 311 टेस्ट विकेट लेने वाले जहीर ने गुरुवार को चोट से लगातार परेशान रहने के बाद अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कहा। वर्ष 2000 में जहीर ने भारत के लिए पदार्पण किया था और अपना अंतिम अंतर्राष्ट्रीय मैच 2014 में न्यूजीलैंड के खिलाफ वेलिंग्टन में खेला था।

जहीर ने यहां अपने संन्यास की घोषणा के बाद आईएएनएस के साथ एक विशेष साक्षात्कार में कहा, “उमेश की गेंदों में तेजी है। साथ ही उनकी गेंदों को मूवमेंट भी मिलती है। उनमें निश्चित तौर पर क्षमता है लेकिन इस क्षमता को अधिकतम स्तर तक निखारा और उपयोग में लाया जाना चाहिए।”

उमेश ने साल 2010 में जिम्बाब्वे के खिलाफ भारत के लिए पहला मैच खेला था। उन्होंने अब तक 15 टेस्ट मैचों में 48 विकेट लिए हैं। इसके अलावा 52 एकदिवसीय मैचों में उनके नाम 72 विकेट हैं।

जहीर ने कहा, “मुझे लगता है कि भारतीय खिलाड़ियों में गति महत्वपूर्ण है लेकिन तेजी और सटीकता के संतुलन को बनाए रखा जाना चाहिए। आक्रमण पंक्ति में स्थायित्व होना चाहिए क्योंकि यह एक प्रक्रिया है। आपको ऐसे खिलाड़ियों को सजाना और संवारना चाहिए जो लय में हों।”

जहीर ने भारत के लिए सभी प्रारूपों में 610 विकेट लिए हैं और वह इस मामले में भारत के चौथे सबसे सफल गेंदबाज हैं। वह टेस्ट मैचों में भारत के लिए दूसरे सबसे सफल तेज गेंदबाज हैं। कपिल ने ही बतौर तेज गेंदबाज उनसे अधिक 434 विकेट लिए हैं।

जहीर ने कहा, “मुझे लगता है कि मेरा सफर काफी खास और बेहतरीन रहा है। क्रिकेट मेरा जीवन रहा है और किसी एक घटना को बता पाना काफी मुश्किल है। अनेकों यादों के बीच हालांकि एक याद है तो बेहद खास है और वह है 2011 विश्व कप खिताब जीतना।”

जहीर ने कंधे की चोट के बाद संन्यास का फैसला किया। इस चोट के कारण ही भारतीय टीम में उनकी वापसी के प्रयासों पर कुठाराघात हुआ। 14 साल के करियर में कई मौके ऐसे आए जब जहीर सिर्फ चोट के कारण टीम से बाहर रहे।

कई अन्य भारतीय खिलाड़ियों की तरह महाराष्ट्र के श्रीरामपुर के इस तेज गेंदबाज की भी मैदान में कई बल्लेबाजों के साथ बहस हुई हैं, लेकिन दक्षिण अफ्रीका के कप्तान ग्रीम स्मिथ साथ हुई उनकी बहस अविस्मरणीय है।

जहीर से जब सबसे मुश्किल बल्लेबाज के बारे में पूछा गया, तो उन्होंने कहा, “अच्छे फार्म वाला कोई भी बल्लेबाज अपने अच्छे दिन मुश्किल से आउट होता है। यह बात सीरीज दर सीरीज बदलती रहती है।”

जहीर ने न्यूजीलैंड के जॉन राइट और दक्षिण अफ्रीका के गैरी कर्स्टन कोच करार दिया। जहीर की नजर में वे जिन कोचों की देखरेख में खेले हैं, उनमें से ये दोनों बेहतरीन हैं।

जहीर अपने करियर में सौरव गांगुली, राहुल द्रविड़ और महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी में खेले हैं। अपने कप्तानों के बारे में बात करते हुए उन्होंने कहा, “मैंने सभी की कप्तानी में गेंदबाजी का काफी आनंद लिया और सभी के साथ मेरे अच्छे संबंध हैं। सभी कप्तानों ने हमेशा मेरे मुताबिक फील्ड सजाई। मैं सबका अभारी हूं।”

जहीर ने उन सभी लोगों का धन्यवाद किया, जिन्होंने उनके करियर में अहम भूमिका अदा की। उन्होंने कहा कि ऐसे सभी लोगों के समर्थन के बिना वह इस मुकाम तक नहीं पहुंच पाते।

स्पोर्ट्स

तीसरे टी-20 मैच में बारिश के कारण नहीं निकला नतीजा:1-0 से भारत ने सीरीज जीती

Published

on

भारत और न्यूजीलैंड के बीच टी-20 सीरीज का तीसरा मुकाबला नेपियर में खेला गया। न्यूजीलैंड के कप्तान टिम साऊदी ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का फैसला किया। कीवी टीम 19.4 ओवर में 160 रन पर ऑलआउट हो गई। डेवोन कॉनवे ने सबसे ज्यादा 59 रन की पारी खेली। वहीं, ग्लेन फिलिप्स ने 54 रन बनाए।

टीम इंडिया की ओर से अर्शदीप सिंह और मोहम्मद सिराज ने सबसे ज्यादा 4-4 विकेट लिए। न्यूजीलैंड के आखिरी 7 विकेट 14 रन बनाने में गिर गए।

जवाब में टीम इंडिया ने 9 ओवर में 4 विकेट खोकर 75 रन बना लिए थे। तभी बारिश शुरू हो गई। इसके बाद एक भी बॉल का खेल नहीं हो सका और तीसरे टी-20 को टाई घोषित कर दिया गया। इसी के साथ टीम इंडिया ने सीरीज 1-0 से अपने नाम कर ली।

  • ईशान किशन, ऋषभ पंत और श्रेयस अय्यर तीसरे टी-20 में भी कुछ खास नहीं कर पाए। ईशान ने 10 रन, पंत ने 11 और श्रेयस अय्यर खाता खोले बिना आउट हो गए।
  • शानदार फॉर्म में चल रहे सूर्यकुमार यादव का बल्ला तीसरे टी-20 में नहीं चल पाया। वो 10 बॉल में 13 रन बनाकर पवेलियन लौटे।

    कब और कैसे गिरे न्यूजीलैंड के विकेट

    • अर्शदीप सिंह ने न्यूजीलैंड को पहला झटका दिया। उन्होंने दूसरे ओवर की तीसरी बॉल पर फिन एलन को LBW आउट कर दिया। एलन ने 4 बॉल का सामना किया और 3 रन बनाकर आउट हुए।
    • मोहम्मद सिराज ने कीवी टीम का दूसरा विकेट लिया। उन्होंने मार्क चैपमैन को 12 बॉल में 12 रन बनाने के बाद अर्शदीप सिंह के हाथों कैच आउट कराया।
    • ग्लेन फिलिप्स ने न्यूजीलैंड के लिए शानदार पारी खेली। उन्होंने 33 बॉल का सामना किया और 163 के स्ट्राइक रेट से 54 रन बनाए। उनका विकेट मोहम्मद सिराज ने लिया।
    • डेवोन कॉनवे 49 बॉल में 59 रन बनाकर आउट हुए। उनका विकेट अर्शदीप सिंह ने लिया।
    • मोहम्मद सिराज ने जेम्स नीशम के रूप में अपना तीसरा विकेट लिया। वहीं, मिचेल सेंटनर को 1 रन पर आउट कर चौथा विकेट झटका।
    • अर्शदीप सिंह के 19वें ओवर में लगातार तीन बॉल पर 3 बल्लेबाज आउट हुए। पहले उन्होंने ईश सोढ़ी और डेरिल मिचेल को पवेलियन भेजा। इसके बाद मोहम्मद सिराज ने एडम मिल्ने को डायरेक्ट थ्रो से रन आउट कर दिया।
    • आखिरी ओवर में हर्षल पटेल ने टिम साउदी को बोल्ड कर भारतीय टीम को आखिरी सफलता दिलाई।

Continue Reading

स्पोर्ट्स

मैं अब तीसरे या चौथे तेज गेंदबाज के रूप में चार ओवर गेंदबाजी कर सकता हूं: हार्दिक पांड्या

Published

on

हार्दिक पांड्या ने घोषणा की है कि वह अब केवल गेंद के साथ अंशकालिक भूमिका निभाने के बजाय टी20ई में “तीसरे या चौथे सीमर” के रूप में चार ओवर फेंक सकते हैं। ऑलराउंडर ने जून में भारत की ओर से वापसी के बाद से दस T20I पारियों में 26 ओवर भेजे हैं, और मंगलवार को सेंट किट्स में वेस्टइंडीज के खिलाफ तीसरे T20I में सबसे किफायती गेंदबाज थे, उन्होंने चार ओवर में सिर्फ 19 रन दिए। ओपनर ब्रैंडन किंग का विकेट। पंड्या ने 2021 टी20 विश्व कप से एक बड़ा बदलाव हासिल किया है, जिसमें उन्होंने पांच मैचों में सिर्फ चार ओवर फेंके और लगभग एक विशेषज्ञ बल्लेबाज के रूप में खेले। उन्होंने कहा, ‘जब भी मैं गेंदबाजी कर रहा होता हूं तो मुझे हमेशा गेंदबाजी करने में मजा आता है। यही कारण था कि मैंने महसूस किया था कि मुझे कुछ समय निकालना चाहिए ताकि मेरी गेंदबाजी में आए। मैंने महसूस किया है कि जब मैं गेंदबाजी करता हूं तो इससे टीम को काफी संतुलन मिलता है, इससे कप्तान को काफी आत्मविश्वास मिलता है। बासेटरे के वार्नर पार्क में भारत की सात विकेट से जीत के बाद कहा। “मैं बीच में फिलर के रूप में गेंदबाजी करता था अगर कोई गेंदबाजी नहीं कर रहा था, तो अब मैं शायद कह सकता हूं कि मैं तीसरे या चौथे सीमर के रूप में चार ओवर गेंदबाजी कर सकता हूं जहां मैं उतना ही योगदान दे सकता हूं जितना मैं अपने बल्ले से करता हूं।” पांड्या की गेंदबाजी वापसी इंडियन प्रीमियर लीग 2022 में शुरू हुई थी, जब उन्होंने गुजरात टाइटंस के लिए 7.27 की इकॉनमी रेट से दस पारियों में 30.3 ओवर भेजे थे। उन्होंने कहा कि वह कई बार हिट होने के बाद अपनी गेंदबाजी में और विकल्प जोड़ने पर काम कर रहे हैं। “गेंदबाजी में, मुझे अपनी ताकत और कमजोरियों को समझने में कुछ समय लगा। टी20 में मुझे दो बार चोट लगी है। लेकिन यह खेल उसी के बारे में है। अगर कोई आपको मारता है और आप काफी मजबूत हैं, तो संभावना है कि आप कुछ सीखने जा रहे हैं। मेरे लिए यह इस बारे में था कि मैं बल्लेबाज को मुझे मारने से कैसे रोक सकता हूं, और मैं अपनी गेंदबाजी में और विविधताएं जोड़ने में सक्षम था और अब मुझे लगता है कि यह ठीक हो रहा है।” बल्ले से, पांड्या 31.62 के औसत से हैं और भारत में वापसी के बाद से 11 पारियों में 136.75 की औसत से प्रहार कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि वह किसी विशेष तरीके से बल्लेबाजी करने के लिए नहीं देख रहे थे, लेकिन वह जिस स्थिति में चलते हैं, उसके अनुकूल होना चाहते थे। और अगर उसे थोड़ी देर के लिए बचाव की जरूरत थी, तो वेस्टइंडीज टी 20 सीरीज़ के लिए भारत के उप-कप्तान ऐसा करने के लिए तैयार थे क्योंकि उनके पास टीम प्रबंधन से छूट थी।

 

Continue Reading

स्पोर्ट्स

CWG 2022: भारत ने नाइजीरिया को 3-0 से हराकर पुरुष टीम टेबल टेनिस के फाइनल में पहुंचा कम से कम रजत का आश्वासन

Published

on

शरत कमल ने विश्व की 15वें नंबर की अरुणा कादरी को हराकर गत चैंपियन भारत ने नाइजीरिया को 3-0 से हराकर राष्ट्रमंडल खेलों में एक और फाइनल में जगह बनाई। जी साथियान और हरमीत देसाई ने ओलाजाइड ओमोटायो और अबियोदुन बोडे के खिलाफ पहले युगल मुकाबले में सीधे गेम में जीत हासिल की और टाई के लिए टोन सेट किया। यह 40 वर्षीय शरथ थे जिन्होंने भारत को एक बड़ा फायदा प्रदान करने के लिए क्वाड्रि के खिलाफ महत्वपूर्ण दूसरा एकल मैच जीता था। अंतिम स्कोरलाइन भारतीय के पक्ष में 11-9,7-11,11-8,15-13 पढ़ी। यह दो प्रतिद्वंद्वियों के बीच एक गहन लड़ाई थी जो एक दूसरे के खेल को अंदर से जानते हैं। शरथ ने एक उच्च जोखिम वाली रणनीति का इस्तेमाल किया जिससे उन्हें पहला गेम जीतने में मदद मिली। नाइजीरियाई ने मैच को बराबर करने के लिए वापसी की, इससे पहले कि शरथ ने कुछ कुरकुरा बैकहैंड विजेताओं के साथ तीसरे में अपने खेल को आगे बढ़ाया। चौथा एनईसी क्षेत्र में दर्शकों के लिए सबसे मनोरंजक निकला। लंबी और तेज रैलियों में हर कोई अपनी सीटों के किनारे खड़ा था। मैच की सर्वश्रेष्ठ रैली (19 शॉट) खेल में देर से आई, जिसमें क्वादरी ने इसे 9-8 से जीत लिया। शरथ ने जेल कार्ड से बाहर निकलने के लिए बॉडी स्मैश का इस्तेमाल किया और इसे 10-10 से बनाने में सफल रहे।क्वादरी ने एक पिछला हाथ नेट के रूप में भारतीय को आखिरी हंसी दी थी।भारत के सर्वोच्च रैंकिंग वाले खिलाड़ी साथियान ने फिर ओमोटायो को 11-9,4-11,11-6,11-8 से हराकर शानदार जीत हासिल की। जी साथियान और हरमीत देसाई ने ओलाजाइड ओमोटायो और अबियोदुन बोडे के खिलाफ पहले युगल मुकाबले में सीधे गेम में जीत हासिल की और टाई के लिए टोन सेट किया।

Continue Reading

Trending

%d bloggers like this: