Connect with us

बिहार

बिहार चुनाव : प्रवासी बिहारी बढ़ाएंगे मतदान प्रतिशत

Published

on

पटना| दिल्ली और कानपुर जैसे शहरों में पत्रकारिता कर चुके पूर्णिया जिले के चनका गांव निवासी गिरींद्रनाथ झा राज्य से बाहर रहने वाले मित्रों को ‘फेसबुक’ और ‘व्हाट्सएप’ के माध्यम से दशहरा और दिवाली के मौके पर अपने गांव आने की अपील कर रहे हैं, ताकिवे मतदान में हिस्सा ले सकें। (latest news)

पत्रकारिता छोड़ किसान बने गिरींद्र ही नहीं, राजस्थान में इंजिनीयरिंग की पढ़ाई करने वाले आदर्श ने भी बिहार से बाहर रहने वाले अपने मित्रों से घर आकर मतदान करने की अपील की है।

गिरींद्र और आदर्श का कहना है कि यह चुनाव पर्व-त्योहारों के बीच पड़ रहा है। इसलिए राज्य से बाहर रह रहे लोग योजना इस तरह बनाएं कि वे अपने घर आकर त्योहार भी मना लें और अपने मताधिकार का उपयोग भी कर लें।

बिहार विधानसभा चुनाव में 12 अक्टूबर से पांच नवंबर के बीच पांच चरणों में मतदान होना है। पहले चरण का मतदान सोमवार को संपन्न हो गया, अब चार चरणों का मतदान बाकी है।

विजय दशमी (दशहारा) 22 अक्टूबर को है तो दीपावली 11 नवंबर को। इस बीच और भी कई छोटे-छोटे पर्व हैं। इसके अलावा 24 अक्टूबर को मुहर्रम भी मनाया जाएगा।

आमतौर पर बिहार से बाहर रहकर नौकरी या व्यवसाय करने तथा पढ़ाई करने वाले लोग मुख्य रूप से पर्व-त्योहारों में ही अपने घर आते हैं। त्योहारों के बीच ही चुनाव की तिथियां पड़ने के कारण वे मतदान करने से नहीं चूकेंगे। ऐसे में संभावना व्यक्त की जा रही है कि इस चुनाव में प्रवासी मतदाता बड़ी संख्या में अपने मताधिकार का उपयोग करेंगे।

गिरींद्र ने आईएएनएस से कहा, “मेरे कई दोस्त अपनी छुट्टियों को चुनाव की तारीख के साथ एडजस्ट कर रहे हैं। इस बार बाहर रहने वाले लोगों के मत कई क्षेत्रों में चुनाव परिणामों को प्रभावित भी कर सकते हैं।”

निर्वाचन आयोग के मुताबिक, राज्य में कुल मतदाताओं की संख्या करीब 6़ 68 करोड़ है। यह माना जाता है कि बिहार की एक बड़ी आबादी राज्य के बाहर रोजगार की तलाश में या पढ़ाई करने जाती है।

गैर सरकारी आंकड़ों के मुताबिक, राज्य की करीब 60 से 70 लाख की आबादी राज्य से बाहर रहती है। ऐसे में यह संख्या कुल मतादाताओं के 10 प्रतिशत के करीब है।

माना जाता है कि बाहर रहने वाले लोगों में से करीब 50 फीसदी लोग अपने अधिकार के प्रति सजग हैं। ऐसे में अगर वे मतदान करें तो प्रवासियों का मत परिणाम को प्रभावित करने की स्थिति में दिखाई देता है।

पटना कॉलेज के प्राचार्य रहे नवल किशोर चौधरी कहते हैं, “इसमें कोई शक नहीं कि इस चुनाव में बाहर रहने वाले बिहार के मतदाता भी अपने मताधिकार का प्रयोग करेंगे। पर्व-त्यौहार के मौके पर घर आने की पुरानी परंपरा है, ऐसे में कोई भी व्यक्ति मतदान की तिथि को ध्यान में रखकर ही कार्यक्रम बनाएगा।”

उल्लेखनीय है कि बिहार विधानसभा की 243 सीटों के लिए 12 अक्टूबर से पांच नवंबर के बीच पांच चरणों में मतदान होना है। प्रथम चरण में 49 विधानसभा सीटों के लिए सोमवार को चुनाव संपन्न हो चुका है। शेष चार चरणों में 16 अक्टूबर, 28 अक्टूबर, एक नवंबर और पांच नवंबर को मतदान होना है। मतों की गिनती आठ नवंबर को होगी।

देश

माली में फंसे झारखंड के 33 मजदूरों की वतन वापसी का रास्ता साफ

Published

on

रांची। दक्षिण अफ्रीकी देश माली स्थित भारतीय दूतावास के हस्तक्षेप के बाद वहां फंसे झारखंड के 33 मजदूरों की घर वापसी का रास्ता साफ हो गया है। भारतीय राजदूत अंजनी कुमार ने आईएएनएस को बताया कि सभी मजदूरों की घर वापसी के लिए जल्द ही फ्लाइट टिकट व्यवस्था की जाएगी।

इन मजदूरों को आंध्र प्रदेश की एक ब्रोकर कंपनी के जरिए इलेक्ट्रिक ट्रांसमिशन से जुड़े काम के लिए माली ले जाया गया था। वहां 4 महीने तक काम करने के बाद भी इन्हें वादे के अनुसार वेतन का भुगतान नहीं किया गया। इन मजदूरों के साथ केएसपी नामक एक बिचौलिया भी माली गया था, लेकिन पिछले हफ्ते वह इन्हें छोड़कर भारत लौट आया। इसके बाद वहां रह रहे मजदूरों ने सोशल मीडिया पर वीडियो जारी कर भारत सरकार और झारखंड सरकार से अपने घर वापसी की गुहार लगाई थी। झारखंड सरकार ने इस पर संज्ञान लेते हुए विदेश मंत्रालय और भारतीय दूतावास से हस्तक्षेप की अपील की थी। माली स्थित भारतीय राजदूत अंजनी कुमार ने यह मामला संज्ञान में आते ही इन मजदूरों से काम ले रही कंपनी के अधिकारियों से बातचीत की।
बीते 18 जनवरी को कंपनी के अधिकारियों और मजदूरों के बीच भारतीय दूतावास की अध्यक्षता में माली की राजधानी बमाको में हुई बैठक में सभी के बकाया वेतन के भुगतान पर सहमति बनी। ये मजदूर जब तक वापस नहीं आते हैं, तब तक इनके आवास और भोजन आदि की व्यवस्था कंपनी ही देखेगी। इनकी वापसी की टिकट की व्यवस्था भी कंपनी की ओर से की जाएगी। भारतीय राजदूत अंजनी कुमार ने कहा कि मजदूरों और उनके परिजनों के परिजनों को अब किसी तरह की चिंता करने की जरूरत नहीं है। दूतावास इन सभी की सुरक्षित वापसी सुनिश्चित कराएगा।

Continue Reading

देश

बिहार : स्कूल में चल रही थी ‘शराब पार्टी’, पहुंच गई पुलिस, हेडमास्टर सहित 3 शिक्षक गिरफ्तार

Published

on

नवादा। बिहार में जहां शराबबंदी कानून के कार्यान्वयन को लेकर विपक्ष सरकार पर लगातार निशाना साध रही है, वही सराकारी कर्मचारी भी इस कानून की धज्जियां उड़ाने में पीछे नहीं है। ऐसा ही एक मामला नवादा जिले के वारिसलीगंज थाना क्षेत्र के एक स्कूल से सामने आया जहां, शिक्षक शराब की पार्टी कर रहे थे और पुलिस पहुंच गई। पुलिस ने प्रधानाध्यापक (हेडमास्टर) समेत 3 शिक्षकों को गिरफ्तार किया है।

पुलिस के एक अधिकारी ने गुरुवार को बताया कि बुधवार की शाम पुलिस को सूचना मिली कि वारिसलीगंज नगर परिषद क्षेत्र के सामबे गांव स्थित मध्य विद्यालय में कुछ लोग शराब की पार्टी कर रहे हैं।
इसी सूचना के आधार पर पुलिस स्कूल पहुंच गई और मौके से प्रधानाध्यापक सुनील कुमार सहित तीन शिक्षकों को शराब पीते गिरफ्तार किया गया।वारिसलीगंज के थाना प्रभारी पवन कुमार ने बताया कि गिरफ्तार लोगो में सुनील कुमार के अलावा रजनीकांत शर्मा और प्रमोद कुमार सिंह हैं। उन्होंने बताया कि ये दोनो दूसरे स्कूल के शिक्षक हैं।
थाना प्रभारी ने बताया कि घटनास्थल से शराब की एक खाली बोतल भी बरामद की गई है। तीनों शिक्षकों की चिकित्सकीय जांच के बाद शराब पीने की पुष्टि भी हुई है। पुलिस अब पूरे मामले की जांच कर रही है। उल्लेखनीय है कि राज्य में किसी भी प्रकार की शराब बिक्री और सेवन पर पूर्ण प्रतिबंध है।

Continue Reading

देश

तेजस्वी यादव के तेलंगाना सीएम चंद्रशेखर से मुलाकात ने बढ़ाई कांग्रेस की परेशानी!

Published

on

पटना। बिहार में मुख्य विपक्षी पार्टी राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के प्रमुख नेताओं में शामिल तेजस्वी यादव के हैदराबाद जाने और तेलंगाना के मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर से मुलाकात के बाद इसके सियासी मायने निकाले जाने लगे हैं। इस मुलाकात के बाद कांग्रेस में हालांकि छटपटाहट है, लेकिन कोई नेता फिलहाल इस मुलाकात को ज्यादा तरजीह देने के मूड में नहीं है।

तेलंगाना के मुख्यमंत्री चंद्रशेखर ने राजद के प्रमुख लालू प्रसाद के पुत्र तेजस्वी से मुलाकात के पहले वामपंथी दलों के प्रमुख नेताओं से भी मुलाकात कर चुके हैं। अब बिहार में सबसे बड़े दल राजद के बड़े नेता से चंद्रशेखर से मुलाकात को लेकर तीसरे मोर्चे (गठबंधन) की शुरूआत मानी जा रही है।
कहा जा रहा है कि जिस प्रकार पिछले साल हुए बिहार विधानसभा उपचुनाव में दो सीटों पर हुए चुनाव में राजद ने महागठबंधन की सहयोगी पार्टी कांग्रेस को झटका देते हुए दोनो सीटों पर अपने प्रत्याशी उतार दिए थे, उससे यह तय हो गया था दोनो पार्टियों के रिश्ते में खटास आ गई है। बाद में हालांकि कांग्रेस ने भी अपने प्रत्याशी उतार दिए थे।
माना जा रहा है कि इस मुलाकात का साइड इफेक्ट अभी से बिहार में दिखने भी लगा है। बिहार में स्थानीय निकाय कोटे से विधान परिषद की 24 सीटों पर होने वाले चुनाव को लेकर राजद अपनी ही सहयोगी पार्टी कांग्रेस को कोई तरजीह देने के मूड में नहीं है।
भाजपा के उपाध्यक्ष राजीव रंजन तो कहते है कि विधानसभा उपचुनाव में महज एक सीट के लिए कांग्रेस को पूरे बिहार के सामने अपमानित करने के बाद अब विधान परिषद सीटों को लेकर राजद ने एक बार फिर कांग्रेस को उसकी औकात दिखा रही है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस को बिहार में राजद के तले ही कांग्रेस को राजनीति करनी होगी।
कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष मदन मोहन झा भले ही इसके लिए केंद्रीय नेतृत्व से बातचीत की बात कह रहे हों, लेकिन राजद द्वारा प्रत्याशी तय करने की भी सूचना है।
इधर, उत्तर प्रदेश चुनाव में भी कांग्रेस से क्षेत्रीय पार्टी समाजवादी पार्टी ने दूरी बना ली है, जबकि अन्य भाजपा विरोधी पार्टियों को तरजीह देते दिख रही है।
वैसे, तेजस्वी और तेलंगाना के मुख्यमंत्री की मुलाकात को शुरूआत बताया जा रहा है, लेकिन इसके मायने बड़े निकाले जा रहे हैं। कहा जा रहा है कि भाजपा और कांग्रेस से समान दूरी बनाए दलों को एकजुट करने का प्रयास है।
इस बीच, राजद और कांग्रेस के नेता इस मुलाकात को लेकर ज्यादा खुलकर नहीं बोल रहे। दोनो दलों के नेता इसे राजनीतिक लोगो की मुलाकात और शिष्टाचार मुलाकात बता रहे हैं।
बहरहाल, बिहार सहित कई राज्यों में सहयोगी दलों के जरिए अपनी पहचान कायम रखने में कामयाब रही कांग्रेस के लिए सबसे बड़ी ताकत भाजपा विरोधी दल ही माने जाते थे। ऐसे में अगर कांग्रेस का ऐसे दलों का साथ छूटा तो बड़ी परेशानी से इंकार नहीं किया जा सकता है।

Continue Reading

Trending

%d bloggers like this: