Connect with us

छत्तीसगढ़

104 साल की अम्मा ने बदल दी गांव की तकदीर!

Published

on

रायपुर/धमतरी। छत्तीसगढ़ के धमतरी जिले में गंगरेल जलाशय के समीप नैसर्गिक तथा वन संपदाओं से परिपूर्ण ग्राम कोटार्भी है। (chhattisgarh hindi news) जिला मुख्यालय धमतरी से यह गांव मात्र 14 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। धमतरी के कलेक्टर भीम सिंह की अपील पर गांव की 104 वर्षीया वृद्धा कुंवर बाई यादव सबसे पहले शौचालय बनाने के लिए आगे आईं। कुंवर बाई की दृढ़इच्छा शक्ति ने आज गांव की तकदीर बदल कर रख दी है। बकरियां चराकर जीवन-यापन करने वाली कुंवर बाई ने बकरियां बेचकर 22 हजार रुपये में गांव में सबसे पहले शौचालय बनाया। इतना ही नहीं, स्वच्छता अभियान से प्रेरित कुंवर बाई ने बाकायदा घर-घर जाकर लोगों को शौचालय बनाने के लिए प्रेरित भी किया और गांववालों को इसके फायदे समझाने में कामयाब भी हुईं। आज यह गांव खुले में शौच से मुक्त है।

ग्राम पंचायत बरारी के आश्रित ग्राम कोटार्भी में लगभग साढ़े चार सौ की जनसंख्या है। गांव को खुले में शौच मुक्त बनाने बेमिसाल नेतृत्व क्षमता का परिचय देने वाली 104 वर्षीया कुंवर बाई की अद्भुत कहानी है। बकरियां चराकर जीवन-यापन करने वाली की बूढ़ी काया भले ही जवाब दे रही हो, लेकिन उनकी जिंदादिली आज भी ग्रामीणों के लिए अनुकरणीय है।

जीवन के आखिरी पड़ाव में भी उनकी दृढ़ इच्छाशक्ति लाजवाब है। उन्होंने बकरियों को बेचकर 22 हजार रुपये जुटाए और गांव में सबसे पहले शौचालय बनवाया, जो नई पीढ़ी के लिए प्रेरणास्पद है। आज कोटार्भी के सभी घरों में महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी योजना के तहत शौचालय निर्मित हो चुके हैं।

इतना ही नहीं, जंगल ऊपरपारा में रह रहे 30 कमार परिवारों ने भी स्वच्छता और शौचालय की अनिवार्यता को आत्मसात करते हुए अपने घरों में शौचालय बनवा लिए हैं। अब कोई लोटा लेकर जंगल की तरफ नहीं जाता।

ग्राम स्वच्छता निगरानी समिति के सदस्य लवकुश ध्रुव, भगेलाराम यादव, राजकुमार ध्रुव, हेमलाल कमार व मयाराम कमार ने बताया कि 30 साल के इतिहास में पहली बार जिले के कलेक्टर भीम सिंह व मुख्य कार्यपालन अधिकारी (जिला पंचायत) पी.एस. एल्मा ने चौपाल लगाकर स्वच्छता के प्रति लोगों की सोच बदल दी है। कोटार्भी के लोग 15 जुलाई को अपने गांव को खुले में शौच से मुक्त (ओडीएफ) घोषित कर चुके हैं।

ग्राम की महिलाएं कमला साहू, फुलेश्वरी यादव, कीर्ति बाई यादव, केशरी ध्रुव, मीना बाई ध्रुव, तुलसी ध्रुव आदि ने समवेत स्वर में कहा, “तन बदलगे मन बदलगे जिनगी के चिंतन बदलगे। अब टुटिस अंधियारी के बंधन, चेहरा अउ दरपन बदलगे, जिनगी के चिंतन बदलगे।”

छत्तीसगढ़

तेलंगाना में पहले दिन 4 हजार स्वास्थ्यकर्मियों को मिलेगी कोरोना वैक्सीन

Published

on

हैदराबाद| विश्व के सबसे बड़े कोविड-19 टीकाकरण के लिए तेलंगाना पूरी तरह से तैयार है, जहां सरकार द्वारा संचालित सुविधाओं में 4,000 स्वास्थ्यकर्मियों को शनिवार को वैक्सीन की पहली खुराक दी जाएगी। स्वास्थ्य अधिकारियों ने राज्य के सभी 33 जिलों में फैले 139 केंद्रों पर लाभार्थियों को टीकाकरण करने के लिए सभी व्यवस्थाएं की हैं।

स्वास्थ्य मंत्री एटाला राजेंदर और चिकित्सा शिक्षा निदेशक रमेश रेड्डी हैदराबाद के गांधी अस्पताल में टीका प्राप्त करेंगे।

राज्यपाल डॉ. तमिलिसाई एस. निजाम इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज (एनआईएमएस) में वैक्सीन रोलआउट कार्यक्रम में भाग लेंगे।

इसके साथ ही राज्य भर में मंत्री, सांसद, राज्य विधान सभा और राज्य विधान परिषद के सदस्यों के साथ ही ग्राम सरपंचों के स्तर तक जन प्रतिनिधि अपने संबंधित जिला एवं क्षेत्र के अस्पतालों व प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में आयोजित होने वाले अभियान में भाग लेंगे।

सार्वजनिक स्वास्थ्य निदेशक जी. श्रीनिवास राव ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार की सुबह 10.30 बजे वर्चुअल तरीके से कार्यक्रम का शुभारंभ करेंगे। गांधी अस्पताल और एक ग्रामीण स्वास्थ्य केंद्र, नरसिंगी स्थित दो टीकाकरण केंद्रों में दो तरफा संचार (टू-वे कम्यूनिकेशन) की व्यवस्था की गई है।

प्रत्येक केंद्र पर अधिकतम 30 लाभार्थियों को टीका लगाया जाएगा। सोमवार से यह संख्या चरणों में बढ़ जाएगी और आने वाले दिनों में यह 100 प्रति केंद्र के अधिकतम स्तर तक पहुंच जाएगी।

टीकाकरण अभियान के दौरान शुरूआती दौर में अधिकांश संस्थानों में कार्यरत स्वच्छता और सुरक्षा विंग, अस्पतालों, जिला अस्पतालों और क्षेत्र के अस्पतालों के साथ ही आशा केंद्र, आंगनवाड़ी और अन्य कर्मचारियों को टीका लगाया जाएगा।

राज्य के स्वास्थ्य अधिकारियों ने सरकारी और निजी संस्थानों में 3.15 लाख स्वास्थ्य कर्मचारियों की पहचान की है।

सोमवार से टीकाकरण के लिए केंद्रों की संख्या में भी धीरे-धीरे वृद्धि की जाएगी और अगले कुछ दिनों में टीका की खुराक की उपलब्धता के आधार पर 1,213 केंद्रों पर कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा।

राव ने कहा कि कोविड टीका सुबह 9 बजे से शाम 4 बजे के बीच दिया जाएगा।

केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय से राज्य को अब तक 3.74 लाख कोरोना वैक्सीन की खुराक मिली है।

Continue Reading

छत्तीसगढ़

झारखंड में आदिवासियों के बीच हॉकी क्रांति का जनक बना एक स्कूली शिक्षक

Published

on

रांची | झारखंड में सरकारी सहायता प्राप्त एक अल्पसंख्यक स्कूल शिक्षक ने ‘जहां चाह, वहां राह’ की कहावत को सच साबित कर दिया है। यहां के एक शिक्षक बेनेडिक्ट कुजूर ने तमाम चुनौतियों के बाद भी न केवल ढेरों लड़के-लड़कियों को प्रशिक्षित किया बल्कि उनके द्वारा प्रशिक्षित खिलाड़ी राष्ट्रीय हॉकी टीम में भारत का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं। झारखंड के सिमडेगा जिले के करनगुरी गांव में जहां लोगों को बुनियादी सुविधाएं भी मयस्सर नहीं हैं। वहीं अल्पसंख्यकों द्वारा संचालित प्राथमिक विद्यालय के प्राचार्य कुजूर ने अपने कामों से हॉकी क्रांति ला दी है। इसके अलावा पांचवीं तक के इस स्कूल को उन्होंने अपने प्रयासों से आठवीं तक का करवाया। कुजूर ने  बताया, “2003 में जब मुझे करनगुरी गांव में पोस्टिंग मिली तो मैंने यहां खेलों का आयोजन करने का फैसला किया। पहले तो ना छात्रों ने ना अभिभावकों ने रूचि ली। फिर मैंने उन्हें जागरुक करना शुरू किया। मैंने स्कूल में सभी स्टूडेंट्स के लिए खेल अनिवार्य कर दिए। यहां हॉकी खेलना ही एकमात्र विकल्प थे।” उन्होंने आगे कहा, “हमने छात्रों के लिए हॉकी प्रशिक्षण शुरू किया। लेकिन इस दौरान हमें संसाधनों की भारी कमी से जूझना पड़ा। हमने बांस से बनी हॉकी स्टिक इस्तेमाल की। हॉकी की गेंद न होने पर ‘शरीफा’ नाम के एक फल को गेंद के रूप में इस्तेमाल किया। बाद में बांस से बनी गेंद का इस्तेमाल किया। इन सारी चुनौतियों के बीच सबसे बड़ी समस्या थी स्किल डेवलपमेंट की है। कुजूर ने कहा, “हमने एक्सरसाइज करने के लिए छात्रों को नदी की बालू पर दौड़ने, पहाड़ियों पर चढ़ने के लिए कहा। यह क्षेत्र पिछड़ा है, यहां उचित आहार भी उपलब्ध नहीं था।  कुछ ही समय में यह स्कूल हॉकी की प्रतिभा के लिए एक नर्सरी बन गया। इस स्कूल में प्रशिक्षित कई खिलाड़ी जिला और राज्य स्तर पर खेल चुके हैं। वहीं राष्ट्रीय टीम के खिलाड़ियों में ज्यादातर लड़कियां हैं। स्कूल के काम को देखते हुए अब इसे कई एनजीओ से मदद मिल रही है। राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खेलने वाली लड़कियों में ब्यूटी डंडुंग, सुषमा कुमारी, अलका डंडुंग, दीपिका सोरेंग और पिंकी एक्का शामिल हैं। कुजूर को जब 2016 में जलडेगा स्थानांतरित किया गया, तब तक यह स्कूल हॉकी पावरहाउस बन चुका था। 019 में भारत के लिए खेलने वाली ब्यूटी डंडुंग ने अपने करियर में बेनेडिक्ट कुजूर के योगदान को सबसे अहम बताया था। डंडुंग ने बताया, “प्रिंसिपल सर ने हमारे लिए हॉकी स्टिक्स लाना अनिवार्य कर दिया था। स्कूल में हमने बांस की स्टिक से हॉकी खेली। मैंने ऑस्ट्रेलिया सहित कई देशों के खिलाफ कई मैच खेले हैं। इस दौरान सर द्वारा सिखाए गए स्किल्स ने अंतर्राष्ट्रीय हॉकी में भी हमारी मदद की है।  सिमडेगा हॉकी एसोसिएशन के सचिव मनोज कुमार ने कहते हैं, “झारखंड के 70 प्रतिशत हॉकी खिलाड़ी उसी स्कूल से आते हैं, जिसमें बेनेडिक्ट कुजूर ने छात्रों को प्रशिक्षित करना शुरू किया था। यहां के 6 खिलाड़ी अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खेल चुके हैं। यह स्कूल बेहतरीन बुनियादी कौशल प्रशिक्षण देता है।”
गौरतलब है कि झारखंड का हॉकी चैंपियन देने का समृद्ध इतिहास रहा है। प्रतिष्ठित खिलाड़ी जयपाल सिंह मुंडा भी झारखंड के ही थे।

Continue Reading

छत्तीसगढ़

परिवार के पांच लोगों की हत्या कर युवक ने की आत्महत्या

Published

on

बिलासपुर| छत्तीसगढ़ में बिलासपुर जिले के मटियारी गांव में शुक्रवार तड़के एक युवक ने अपने परिवार के पांच लोगों की हत्या करने के बाद ट्रक के सामने कूदकर आत्महत्या कर ली। पुलिस सूत्रों ने बताया कि सीपत थाना क्षेत्र के मटियारी गांव के 22 वर्षीय रोशन सूर्यवंशी ने अपने पिता रूपदास सूर्यवंशी(45) , माता संतोषी(40) ,भाई रोहित(20) और ऋषि(15) तथा बहन कामिनी(14) की धारदार हथियार से हत्या कर दी। इसके बाद उसने सड़क पर तेज गति से आ रहे ट्रक के सामने कूदकर आत्महत्या कर ली। हत्या के कारणों का अभी पता नहीं चल सका है। ग्रामीणों का कहना है कि युवक मानसिक रूप से विक्षिप्त था। घटना की सूचना मिलते ही पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी मौके पर पहुंचे। पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है और आवश्यक तहकीकात कर रही है।

 

Continue Reading

Trending

%d bloggers like this: