Connect with us

उत्तर प्रदेश

23 जनवरी के बाद जनता करे निगम अधिकारियों से सीधा संवाद

Published

on

वर्तमान सदन के कार्यकाल पूरा हो जाने के बाद अब निगम में होगी सीधी सुनवाई
गाजियाबाद (करंट क्राइम)। नगर निगम के वर्तमान सदन का कार्यकाल 23 जनवरी को पूरा होने जा रहा है और अब सदन कार्यकाल पूरा होने के बाद जनता से जुड़ी हुई समस्याएं स्थानीय पार्षद के बजाये सीधे अधिकारियों से की जायेगी और अब निगम के अधिकारी ही जनता की समस्याओं के निवारण के लिए तत्पर रहेंगे।
23 जनवरी के बाद से निगम में व्यवस्था परिवर्तित होने जा रही है और करंट क्राइम ने व्यवस्था परिवर्तन को देखते हुए निगम की व्यवस्था को आम जन के बीच लाने का प्रयास किया है। जनता किस तरह से अपने अधिकारों का इस्तेमाल करते हुए निगम के किस पटल पर अपनी समस्याएं अधिकारियों के समक्ष उठा सकती है और समस्याओं का निस्तारण कर सकती है।
निगम के उच्चाधिकारियों से जनता कर सकती है सीधी संवाद
23 जनवरी के बाद से वर्तमान सदन का कार्यकाल पूरा होने जा रहा है और अब जनता और निगम अधिकारियों के बीच की कड़ी पार्षद व्यवस्था समाप्त हो गई है। हालांकि कार्यकाल पूरा होने से पहले भी जनता अधिकारियों से सीधा संवाद कर सकती थी लेकिन अब पार्षद व्यवस्था समाप्त होने के बाद जनता अधिकारियों को सीधे तौर पर अपनी समस्याएं बता सकेगी। नगर निगम के उच्चाधिकारियों में सबसे पहले नगरायुक्त नितिन गौड़, उनके अधीनस्थ अधिकारी के रूप में अपर नगरायुक्त शिवपूजन यादव, अपर नगरायुक्त अरूण यादव, लेखाधिकारी राजेश कुमार गौतम, चीफ इंजीनियर एनके चौधरी, नगर स्वास्थ्य अधिकारी डाक्टर मिथलेश कुमार, जलकल विभाग के महाप्रबंधक आनन्द त्रिपाठी व एक्सईएन योगेंद्र यादव, निर्माण विभाग जैदी व देशराज सिंह , मूख्य कर निर्धारण अधिकारी संजीव सिन्हा, उद्यान प्रभारी अनुज सिंह, आदि प्रमुख हैं। यहां जनता अपनी समस्याओं का निदान करा सकती है।
प्रवर्तन प्रभारी से करें अतिक्रमण या फिर अवैध कब्जे की शिकायत
नगर निगम में प्रवर्तन विभाग भी गठित हैं और यहां पर आमजन अवैध कब्जे से लेकर अतिक्रमण की शिकायतें दर्ज करा सकते हैं। निगम के प्रवर्तन प्रभारी दीपक शरण के पास या फिर निगम के उच्चाधिकारियों के समक्ष शिकायतें दर्ज कराई जा सकती हैं। दर्ज शिकायतों पर प्रवर्तन विभाग कार्रवाई करेगा और अतिक्रमण से लेकर अवैध कब्जे की जमीनों को कब्जा मुक्त करायेगा।

उत्तर प्रदेश

साल 2023 में 55 थानों वाला हो जाएगा पुलिस कमिश्नरेट गाजियाबाद!

Published

on

35 से अधिक एसीपी स्तर के अधिकारियों को भी मिलेगी तैनाती
गाजियाबाद (करंट क्राइम)। पुलिस कमिश्नरेट सिस्टम को मजबूत और पहले से अधिक क्रियाशील बनाने के लिए साल 2023 के अंत तक गाजियाबाद पुलिस कमिश्नरेट के अंतर्गत 55 थानों को चालू कर दिया जाएगा। वर्तमान में गाजियाबाद पुलिस कमिश्नरेट के अंतर्गत 23 थाने बने हुए हैं, जबकि 10 नए थानों को जल्द शुरू करने के लिए शासन को प्रस्ताव भेजा जा चुका है।
वहीं पुलिस के बेहद करीबी सूत्र बता रहे हैं कि गाजियाबाद के शहर, रूरल और ट्रांस हिंडन जोन में थानों की कुल संख्या 55 हो जाएगी। इसी के साथ गाजियाबाद में एसीपी स्तर के अधिकारियों की संख्या में भी इजाफा होगा। गाजियाबाद पुलिस कमिश्नरेट के अंतर्गत 25 से अधिक सर्किल भी होने के कयास लगाया
जा रहा है।
वर्तमान में कुल 9 सर्किल हैं। सर्किल बढ़ने के साथ ही यहां एसीपी स्तर के अधिकारियों को नई तैनाती की जा सकती है जिसकी कुल संख्या 35 तक जा सकती है।
वर्तमान में गाजियाबाद पुलिस कमिश्नरेट के अंतर्गत एसीपी स्तर के 17 अधिकारियों के लिए पद सृजित किए गए हैं, जो साल 2023 के अंत तक बढ़कर 35 तक
पहुंच जाएंगे।
प्रभारी मंत्री के सामने उठा था थानों व सर्किल बढ़ाने का मुद्दा
बीते दिनों उत्तर प्रदेश सरकार के मंत्री और गाजियाबाद के प्रभारी मंत्री के रुप में पहुंचे, उत्तर प्रदेश पुलिस के पूर्व आईपीएस अधिकारी असीम अरुण के जिला मुख्यालय में हुए कार्यक्रम के दौरान गाजियाबाद पुलिस कमिश्नरेट के अधिकारियों ने उनको जानकारी दी थी कि गाजियाबाद कमिश्नरेट में लगातार थानों की संख्या बढ़ाने का कार्य चल रहा है। साल 2023 के अंत तक जिले के तीनों जोन को मिलाकर थानों की कुल संख्या 55 तक पहुंच सकती है।
वहीं एसीपी स्तर के अधिकारियों की संख्या भी शासन द्वारा 17 तय की गई की गई थी। जिससे भविष्य में बढ़ाया जाना है। वहीं एसीपी स्तर के अधिकारियों को तैनाती देने के लिए नए सर्किल वितरित किए जाएंगे।
सर्किल आॅफिसर पर रहेगा दो थानों का प्रभार !
पुलिस कमिश्नरेट गाजियाबाद के अंतर्गत 55 थानों को शुरू कर दिया जाएगा। तो प्रत्येक सर्किल आॅफिसर के अंतर्गत 2-2 थानों का सर्किल रहेगा। यह समीकरण सिटी से लेकर नदियापार और देहात के थानाक्षेत्रों में भी लागू होंगे। वहीं एसीपी स्तर के अधिकारियों के पास भी दो महत्वपूर्ण जिम्मेदारी रहने की संभावना जताई जा रही है।

Continue Reading

उत्तर प्रदेश

लोनी विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने ली बड़ी गारंटी

Published

on

कहा-साधु संतों के आशीर्वाद से होली के बाद लोनी होगी अपराध मुक्त
वरिष्ठ संवाददाता (करंट क्राइम)

गाजियाबाद। लोनी विधायक नंदकिशोर गुर्जर कई दिनों की खामोशी के बाद फिर से फॉर्म में आये हैं। उनके घर पर हरिद्वार से साधु संत आये हैं। शुक्रवार को लोनी विधायक नंदकिशोर गुर्जर के घर पर साधु संतों का डेरा था। विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने साधु संतों की सेवा की और बताया कि ये सभी साधु नाथ पंथ के साधु हैं और एक सप्ताह तक यानी महाशिवरात्रि तक लोनी में ही हवन करेंगे। विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने कहा कि इस हवन से लोनी में राक्षस प्रवृति के लोग, असुरी शक्तियां, भटकती आत्मायें सभी को तर्पण दिया जायेगा।
जिनकी हत्या हुई है और अकाल मौत को प्राप्त हुए हैं उनकी आत्मा की शांति के लिए भी तर्पण होगा। लेकिन जिन लोगों ने आपराधिक कृत्य किये हैं उनके नष्ट होने का आह्वान इस हवन में होगा। ये यज्ञ अपने आप में महत्वपूर्ण है। लोनी विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने गारंटी ली कि आने वाली होली के बाद इस हवन के इफैक्ट दिखाई देंगे। लोनी गारंटी से अपराध मुक्त हो जायेगी। वैसे अभी भी पहले की तुलना में लोनी में क्राइम
कम है।
लोनी विधायक नंदकिशोर गुर्जर ने यह कहकर अधिकारियों का ध्यान हिन्दी भवन में उस समय अपनी ओर खींचा जब उन्होंने कहा कि राम राज्य या तो लोनी में है या फिर अयोध्या
में है।

Continue Reading

उत्तर प्रदेश

रैपिड रेल का उद्घाटन करने आ सकते हैं गाजियाबाद में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी

Published

on

वरिष्ठ संवाददाता (करंट क्राइम)

गाजियाबाद। रैपिड रेल प्रोजेक्ट पूरा हो चुका है और इस रूट पर रैपिड रेल का ट्रायल रन चल रहा है। बताया जाता है कि ट्रायल रन भी लगभग पूरा हो चुका है और स्टेशन का काम भी पूरा है। ये एक बड़ा प्रोजेक्ट है और केन्द्रीय मंत्री जनरल वीके सिंह के लोकसभा क्षेत्र में इसे एक बड़ा तोहफा माना जा रहा है। लोकसभा सांसद जनरल वीके सिंह ने रैपिड रेल प्रोजेक्ट को लेकर केन्द्र सरकार में विशेष प्रयास किये और एक तरह से यह प्रोजेक्ट गाजियाबाद में लोकसभा सांसद जनरल वीके सिंह की देन कहा जा सकता है। अब गाजियाबाद ऐसा शहर हो गया है जहां रैपिड रेल जनता के लिए समर्पित की जानी है। सूत्र बता रहे हैं कि मार्च महीने में रैपिड रेल का उद्घाटन हो सकता है और इस बात की प्रबल संभावना जताई जा रही है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी रैपिड रेल का उद्घाटन करने के लिए आ सकते हैं। सूत्र बताते हैं कि रैपिड रेल का उद्घाटन मार्च के महीने में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के कर कमलों द्वारा होगा। कयास ये भी लगाये जा रहे हैं कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जब गाजियाबाद आयेंगे तो वो रैपिड रेल का उद्घाटन साहिबाबाद से करेंगे या दुहाई स्टेशन को इसके लिए चुना जायेगा।

Continue Reading

Trending

%d bloggers like this: